अफगानिस्तान में स्कूलों से लड़कियों को निकाल रहा तालिबान, यूनेस्को ने बताया बेहद खतरनाक

यूनेस्को के महानिदेशक ऑड्रे अजोले ने अफगानिस्तान में लड़कियों और महिलाओं को पीछे छोड़ते हुए केवल लड़कों और उनके पुरुष शिक्षकों के लिए माध्यमिक विद्यालयों को धीरे-धीरे फिर से खोलने की घोषणा पर गहरी चिंता व्यक्त की है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

यूनेस्को के महानिदेशक ऑड्रे अजोले ने अफगानिस्तान में लड़कियों और महिलाओं को पीछे छोड़ते हुए केवल लड़कों और उनके पुरुष शिक्षकों के लिए माध्यमिक विद्यालयों को धीरे-धीरे फिर से खोलने की घोषणा पर गहरी चिंता व्यक्त की है। यूनेस्को ने कहा कि अगर इस प्रतिबंध को बरकरार रखा जाए तो यह लड़कियों और महिलाओं के शिक्षा के मौलिक अधिकार का एक महत्वपूर्ण उल्लंघन होगा।

यूनेस्को ने इस घोषणा के लिए जिम्मेदार लोगों से स्थिति स्पष्ट करने और सभी अफगान छात्रों, लड़कों और लड़कियों के लिए समान रूप से स्कूलों को फिर से खोलने का आह्वान किया।
यूनेस्को ने चेतावनी दी है कि यदि लड़कियों को शिक्षा के सभी स्तरों पर तेजी से स्कूल लौटने की अनुमति नहीं दी जाती है तो इसके अपरिवर्तनीय परिणाम होंगे। विशेष रूप से, माध्यमिक विद्यालय में लड़कियों की देरी से वापसी से उन्हें शिक्षा और अंतत: जीवन में पीछे छूटने का जोखिम हो सकता है।


यह शिक्षा से पूरी तरह से बाहर होने के जोखिम को बढ़ाता है और उन्हें बाल विवाह जैसे नकारात्मक मुकाबला तंत्र के लिए उजागर करता है। यह लड़कों और लड़कियों के बीच सीखने की असमानताओं को और बढ़ा सकता है, और अंतत: लड़कियों की उच्च शिक्षा और जीवन के अवसरों तक पहुंच में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

यूनेस्को ने कहा, "अफगान बच्चों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता स्पष्ट है, और हमारी सामूहिक जिम्मेदारी यह सुनिश्चित करना है कि उनमें से प्रत्येक के लिए शिक्षा का मौलिक अधिकार पूरी तरह से प्राप्त हो।"

एक रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान ने पिछले बीस वर्षों में विशेष रूप से लड़कियों और महिलाओं के लिए शिक्षा में महत्वपूर्ण प्रगति की है। 2001 से, महिला साक्षरता दर 17 प्रतिशत से लगभग दोगुनी होकर 30 प्रतिशत हो गई है, प्राथमिक विद्यालय में लड़कियों की संख्या 2001 में लगभग शून्य से बढ़कर 2018 में 20.5 लाख हो गई। उच्च शिक्षा में लड़कियों की संख्या 2001 में लगभग 5,000 से बढ़कर 2018 में लगभग 90,000 हो गई। महिला शिक्षकों का प्रतिशत 2007 में 27 प्रतिशत से बढ़ गया। 2018 में 36 प्रतिशत तक। फिर भी देश के विकास के लिए ये महत्वपूर्ण लाभ जोखिम में हैं, यदि लड़कियों की स्कूल में देरी से वापसी होती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia