इमरान समर्थित निर्दलीयों की जीत पाक सेना के लिए तगड़ा झटका, लोगों का रूझान दे रहा बड़ा संकेत

इमरान खान की सत्ता से बेदखली और उनकी गिरफ्तारी के पीछे पाक सेना की बड़ी भूमिका मानी जाती है। ऐसे में चुनाव में आया लोगों का रूझान पाक सेना के खिलाफ बड़े गुस्से का संकेत देता है।

इमरान समर्थित निर्दलीयों की जीत पाक सेना के लिए तगड़ा झटका, लोगों का रूझान बड़ा संकेत
इमरान समर्थित निर्दलीयों की जीत पाक सेना के लिए तगड़ा झटका, लोगों का रूझान बड़ा संकेत
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान चुनाव आयोग के अनुसार, पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी से जुड़े निर्दलीय उम्मीदवारों ने पिछले हफ्ते हुए आम चुनाव में सबसे अधिक संसदीय सीटें हासिल की हैं। जेल में बंद इमरान खान के लिए यह एक आश्चर्यजनक जीत है, जिन्हें दो साल पहले नाटकीय ढंग से प्रधानमंत्री पद से बेदखल होना पड़ा था। विश्लेषकों का कहना है कि यह क्रिकेट आइकन की सत्ता में वापसी को रोकने के लिए की गई थी।

पीटीआई द्वारा साझा किए गए इमरान खान के एक एआई-जनरेटेड वीडियो, जो उनकी आवाज की नकल करता है, ने अपनी जीत के तुरंत बाद अपने लाखों अनुयायियों से कहा, "आपने मेरा भरोसा कायम रखा और आपके भारी मतदान ने सभी को चौंका दिया है। अब अपने वोट की रक्षा की ताकत दिखाओ।" खान की टीम पहले भी सलाखों के पीछे से उनका भाषण देने के लिए एआई का इस्तेमाल कर चुकी है।


सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, इमरान खान गठबंधन के उम्मीदवारों की सफलता देश के हालिया इतिहास में एक बड़ी घटना है। इसने शक्तिशाली सेना को करारा झटका दिया है, जो आमतौर पर देश में सबसे बड़ी ताकत है और जो लंबे समय से पाकिस्तान की सत्ता को नियंत्रित करती आई है। इमरान खान की सत्ता से बेदखली और उनकी गिरफ्तारी के पीछे सेना की बड़ी भूमिका मानी जाती है। ऐसे में चुनाव में आया लोगों का रूझान पाक सेना के खिलाफ बड़े गुस्से का संकेत देता है।

हालांकि पीटीआई समर्थित निर्दलीय उम्मीदवारों के संसद में सबसे अधिक सीटें जीतने के बावजूद पाकिस्तान की अगली सरकार कैसी होगी, इस पर अभी भी सवाल मंडरा रहे हैं।सीएनएन के अनुसार, तीन प्रमुख दलों में से किसी ने भी संसद में बहुमत घोषित करने के लिए आवश्यक सीटें नहीं जीती हैं और इसलिए, अपने दम पर सरकार बनाने में असमर्थ हैं, जिससे यह स्पष्ट नहीं है कि पाकिस्तान का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा। सीएनएन के अनुसार, चुनाव समाप्त होने के तीन दिन से अधिक समय बाद नतीजे घोषित किए गए, जिससे पीटीआई की ओर से चुनावी धोखाधड़ी के आरोप लगाए गए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;