कजाकिस्तान में हिंसा के कारण स्थिति बिगड़ी, यूरोपीय संघ के शीर्ष अधिकारी चिंतित

यूरोपीय संघ (ईयू) के विदेश मामलों और सुरक्षा नीति के उच्च प्रतिनिधि जोसेप बोरेल ने कजाकिस्तान में जारी अशांति के बारे में 'चिंता' व्यक्त की है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

यूरोपीय संघ (ईयू) के विदेश मामलों और सुरक्षा नीति के उच्च प्रतिनिधि जोसेप बोरेल ने कजाकिस्तान में जारी अशांति के बारे में 'चिंता' व्यक्त की है। बोरेल ने एक ट्वीट में कहा, "कजाकिस्तान में हिंसा को लेकर चिंतित हूं। नागरिकों के अधिकारों और सुरक्षा की गारंटी दी जानी चाहिए। बाहरी सैन्य सहायता उन परिस्थितियों की यादें वापस लाती है जिनसे बचना चाहिए।"

मानवाधिकारों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त, मिशेल बाचेलेट ने भी सभी पक्षों से हिंसा से दूर रहने और शांतिपूर्ण समाधान की तलाश करने का आग्रह किया। बाचेलेट ने एक बयान में कहा, "लोगों को शांतिपूर्ण विरोध और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार है। साथ ही, प्रदर्शनकारियों को, चाहे वे कितने भी नाराज या दुखी हों, उन्हें दूसरों के खिलाफ हिंसा का सहारा नहीं लेना चाहिए।"


ईंधन की बढ़ती कीमतों पर असंतोष के खिलाफ रविवार को विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ। वे बुधवार को बढ़ गए, प्रदर्शनकारियों ने अल्माटी में मुख्य सरकारी भवन पर धावा बोल दिया, पुलिस वाहनों में आग लगा दी और सत्तारूढ़ नूर ओटन पार्टी की क्षेत्रीय शाखा पर हमला किया।

अब तक, कजाकिस्तान में 12 कानून प्रवर्तन अधिकारी मारे गए हैं और 1,000 से अधिक लोग घायल हुए हैं, जिनमें से लगभग 400 हिंसक विरोध के परिणामस्वरूप अस्पताल में भर्ती हैं। गृह मंत्रालय ने दावा किया है कि 2,298 प्रदर्शनकारियों को भी हिरासत में लिया गया है।


बढ़ती अशांति ने कजाख सरकार को सामूहिक सुरक्षा संधि संगठन (सीएसटीओ) से मदद लेने के लिए प्रेरित किया, जिसने देश में शांति सेना तैनात करने का फैसला किया है। राष्ट्रपति कसीम-जोमार्ट टोकायव ने अशांति के लिए विदेशी प्रशिक्षित आतंकवादियों को दोषी ठहराया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia