WHO ने चीन से आने वालों पर प्रतिबंध को सही ठहराया, कहा- कोविड डेटा के अभाव में उचित हैं ऐसे कदम

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने यह टिप्पणी अमेरिका से दक्षिण कोरिया तक कई देशों द्वारा चीन के हवाई यात्रियों पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर की है। चीन में इस समय बड़े पैमाने पर कोविड के मामलों में वृद्धि देखी जा सकती है, लेकिन देश इसके डेटा का खुलासा नहीं कर रहा है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम घेब्रेयसस ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना मामलों पर व्यापक जानकारी के अभाव में जमीनी स्तर पर विभिन्न देशों द्वारा चीन से आने वाले यात्रियों पर लगाए गए प्रतिबंधों को समझा जा सकता है। डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने यह टिप्पणी अमेरिका से दक्षिण कोरिया तक कई देशों द्वारा चीन से हवाई यात्रियों पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर की है।

चीन में इस वक्त बड़े पैमाने पर कोविड संक्रमण के मामलों में वृद्धि देखी जा सकती है, लेकिन देश इसको लेकर डेटा का खुलासा नहीं कर रहा है। डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने एक ट्वीट में कहा, "चीन से व्यापक जानकारी के अभाव में यह समझा जा सकता है कि दुनिया भर के देश इस तरह से कदम इसलिए उठा रहे हैं, क्योंकि वे मानते हैं कि इससे वे अपनी आबादी की रक्षा कर सकते हैं।" उन्होंने कहा कि विश्व निकाय विकसित स्थिति के बारे में चिंतित है।


घेब्रेयसस ने कहा, "हम कोविड 19 वायरस को ट्रैक करने और सबसे अधिक जोखिम वाले लोगों को टीका लगाने के लिए चीन को प्रोत्साहित करना जारी रख रहे हैं। हम नैदानिक देखभाल और इसकी स्वास्थ्य प्रणाली की सुरक्षा के लिए अपना समर्थन दे रहे हैं।" उन्होंने पिछले हफ्ते कहा था कि डब्ल्यूएचओ चीन में उभरती स्थिति से बहुत चिंतित है और रोग की गंभीरता, अस्पताल में भर्ती और गहन देखभाल आवश्यकताओं पर विशिष्ट डेटा की अपील की।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने दैनिक कोविड-19 केस डेटा प्रकाशित करना बंद कर दिया है और चीनी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) को प्रभार सौंप दिया है। चीन के एनएचसी ने 21 जनवरी, 2020 से डेली न्यू टैली जारी करना शुरू किया था, जब महामारी विशेषज्ञों ने पाया था कि वायरस मनुष्यों के बीच से फैल सकता है।

हालांकि, सीडीसी को महामारी निगरानी रिपोर्टिंग प्रणाली को सक्रिय करने और संगठन को प्रभावी ढंग से संक्रमण डेटा एकत्र करने और रिपोर्ट करने की अनुमति देने में अभी भी कुछ दिन लगेंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;