पाकिस्तान चुनाव में होगी अमेरिका की एंट्री? कई अमेरिकी सांसदों ने बाइडेन प्रशासन की ये मांग

हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के एक वरिष्ठ सदस्य, कांग्रेसी ब्रैड शेरमन ने कहा कि पाकिस्तान में प्रेस संगठनों को वोट सारणीकरण की रिपोर्ट करने के लिए स्वतंत्र होना चाहिए और परिणामों की घोषणा में कोई अनुचित देरी नहीं होनी चाहिए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कई अमेरिकी सांसदों ने बाइडेन प्रशासन से कथित अनियमितताओं की जांच होने तक पाकिस्तान के चुनाव परिणामों को मान्यता नहीं देने का आग्रह किया है। यह बात मीडिया रि‍पोर्ट में कही गई है। अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने चुनावी प्रक्रिया में हस्तक्षेप के आरोपों पर चिंता व्यक्त करते हुए शुक्रवार को एक बयान में कहा, "हस्तक्षेप या धोखाधड़ी के दावों की पूरी जांच की जानी चाहिए।"

बयान में कहा गया है, "हम विश्वसनीय अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय चुनाव पर्यवेक्षकों के साथ उनके आकलन में शामिल हैं कि इन चुनावों में अभिव्यक्ति और शांतिपूर्ण सभा की स्वतंत्रता पर अनुचित प्रतिबंध शामिल हैं।"

द न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार,"हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के अध्यक्ष माइकल मैककॉल, रैंकिंग सदस्य ग्रेगरी मीक्स ने कहा कि पाकिस्तानी लोकतंत्र के समर्थन में अन्य प्रमुख सांसदों के हालिया कड़े बयानों को देखते हुए, हम बाइडेन प्रशासन और कांग्रेस से मतगणना अनियमितताओं और मतपत्र से छेड़छाड़ की चिंताओं पर ध्यान देने का आग्रह करते हैं।"

शक्तिशाली हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के एक वरिष्ठ सदस्य, कांग्रेसी ब्रैड शेरमन ने कहा, "पाकिस्तान में प्रेस संगठनों को वोट सारणीकरण की रिपोर्ट करने के लिए स्वतंत्र होना चाहिए और परिणामों की घोषणा में कोई अनुचित देरी नहीं होनी चाहिए।"


द न्यूज ने बताया, इसके साथ ही कांग्रेस सदस्य रशीदा तलीब ने कहा, ''हमें पाकिस्तानी लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए क्योंकि उनका लोकतंत्र गंभीर खतरे में है। उन्हें बिना किसी हस्तक्षेप और प्रक्रिया में छेड़छाड़ के अपने नेताओं का चुनाव करने में सक्षम होना चाहिए और अमेरिका को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारे कर डॉलर किसी को भी नुकसान न पहुंचे।''

कांग्रेस महिला दीना टाइटस ने कहा कि वह जमीनी स्तर पर स्थिति पर करीब से नजर रख रही हैं और अधिकारियों से कानून के शासन का पालन करने का आग्रह कर रही हैं। उन्होंने पाकिस्तान में राजनीतिक हिंसा के इस्तेमाल और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर प्रतिबंध की निंदा करते हुए कहा, "स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव लोकतंत्र की आधारशिला हैं।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;