दुनिया: 3 हफ्तों में रूस के चार प्रमुख रक्षा अधिकारियों की मौत और श्रीलंका के खजाने में नहीं है पैसा

रूस के प्रमुख रॉकेट विशेषज्ञ पावेल कामनेव का निधन हो गया है। श्रीलंका के खजाने में धन की कमी हो रही है, 1948 में आजादी के बाद से श्रीलंका का अब तक का सबसे खराब आर्थिक संकट जारी है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

रूस के रॉकेट विशेषज्ञ कामनेव 3 हफ्तों में मरने वाले चौथे प्रमुख रक्षा अधिकारी

रूस के प्रमुख रॉकेट विशेषज्ञ पावेल कामनेव का निधन हो गया है। तीन सप्ताह से भी कम समय में चौथे प्रमुख रक्षा अधिकारी चल बसे। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, 85 वर्षीय कामनेव अल्माज-एंटे एयरोस्पेस डिफेंस कंसर्न के वैज्ञानिक निदेशक और यूक्रेन में व्लादिमीर पुतिन द्वारा तैनात घातक कैलिब्र मिसाइल विकसित करने वाले विशेषज्ञ थे।

वह 20 से अधिक हथियारों के आविष्कारों और 300 से अधिक वैज्ञानिक और तकनीकी रिपोर्टों के सह-लेखक के लिए जिम्मेदार थे। उन्होंने अपनी मृत्यु तक हथियारों की दिग्गज कंपनी अल्माज-एंटे के वैज्ञानिक निदेशक और नोवेटर प्रायोगिक डिजाइन ब्यूरो के अध्यक्ष के रूप में काम किया, जहां कलिब्र मिसाइलें बनाई गई थीं।

प्रचंड ने भारी समर्थन के साथ विश्वास मत जीता

फोटो: IANS
फोटो: IANS

पाल के नए प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड ने मंगलवार को 275 सदस्यीय संसद में 268 मत प्राप्त कर विश्वास मत हासिल किया। नेपाल की संसद के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी प्रधानमंत्री को विभिन्न राजनीतिक दलों से इतना भारी समर्थन मिला है।

सदन में फिलहाल 12 पार्टियां हैं, जिनमें से 10 ने प्रचंड की बोली का समर्थन किया है। इससे पहले प्रधानमंत्री पद की दावेदारी करते समय प्रचंड को केवल 168 सदस्यों का समर्थन प्राप्त था। सदन में सबसे बड़ी पार्टी नेपाली कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक दलों ने अब प्रचंड को समर्थन दिया है। प्रचंड ने कहा, "विपक्षी दलों के समर्थन से मुझे अभूतपूर्व समर्थन मिला है। मैं इसे एक बड़े अवसर के रूप में देखता हूं।"


श्रीलंका के खजाने में पैसा नहीं है : कैबिनेट प्रवक्ता

श्रीलंका के खजाने में धन की कमी हो रही है, 1948 में आजादी के बाद से श्रीलंका का अब तक का सबसे खराब आर्थिक संकट जारी है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, गुणवर्धने ने संवाददाताओं से कहा कि करों के माध्यम से एकत्र किए गए धन में गिरावट देखी गई है। नतीजतन, भुगतान करने के लिए कोषागार में धन की कमी चल रही है।

प्रवक्ता ने कहा कि 2022 में देश में आए आर्थिक संकट ने खजाने की आय को प्रभावित किया है। 2023 में भी करों के माध्यम से अपेक्षित आय कम है। हमें सार्वजनिक क्षेत्र के वेतन का भुगतान करने की आवश्यकता है। भुगतान राजकोष द्वारा किया जाता है न कि हमारे व्यक्तिगत धन से। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने सभी मंत्रालयों को सूचित किया है कि वह 2023 के बजट आवंटन में कम से कम 5 प्रतिशत की कटौती करें। गुणवर्धने ने कहा कि आर्थिक संकट से होने वाले प्रभाव को कम करने के लिए खचरें में कटौती के और कदम उठाए जाएंगे।

डिस्ट्रॉयर फंसा, पश्चिम जापान के समुद्र में तेल का रिसाव

फोटो: IANS
फोटो: IANS

स्थानीय मीडिया ने तटरक्षक बल और रक्षा मंत्रालय के हवाले से कहा कि जापानी समुद्री आत्मरक्षा बल (एमएसडीएफ) का डिस्ट्रॉयर यामागुची के पश्चिमी प्रान्त के पास पानी में फंस गया। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, जहाज के समुद्र तल पर कुछ चट्टानों से टकराने के बाद जेएस इनजुमा डिस्ट्रॉयर से तेल का रिसाव हो रहा है।

दोपहर करीब 12.30 बजे कोस्ट गार्ड को घटना की सूचना मिली। डिस्ट्रॉयर के चालक दल ने कहा कि उन्होंने जहाज में शक्तिशाली कंपन महसूस किया। जापान के सार्वजनिक प्रसारक एनएचके ने कहा कि रक्षा मंत्रालय और तटरक्षक बल ने पुष्टि की है कि डिस्ट्रॉयर समुद्र तल पर चट्टानों के संपर्क में आया।


बांग्लादेश मासिक आधार पर बिजली व ऊर्जा की कीमतों की बना रहा योजना

फोटो: IANS
फोटो: IANS

बांग्लादेश सरकार मासिक आधार पर बिजली और ऊर्जा की कीमतों को समायोजित करने के लिए एक नई प्रणाली पेश करेगी। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, बिजली, ऊर्जा और खनिज संसाधन राज्य मंत्री नसरूल हामिद ने कहा कि वे हर महीने बिजली और ऊर्जा की कीमतों को समायोजित करने की योजना पर काम कर रहे हैं।

मंत्री ने कहा कि यदि मूल्य समायोजन मासिक आधार पर किया जाता है, तो गैस आयात में वित्तीय घाटे के कारण हुए बैकलॉग को कुछ हद तक दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बिजली और ऊर्जा क्षेत्र के लिए सरकार की सब्सिडी जारी रहेगी क्योंकि हाल की मूल्य वृद्धि से क्षेत्र में पूर्ण नुकसान की भरपाई नहीं होगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;