दुनिया: श्रीलंका के राष्ट्रपति ने बच्चों को हिंदी भाषा सीखने को कहा और लीबिया में भीषण संघर्ष में 55 की मौत

श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने कहा है कि बदलती दुनिया में बच्चों को भविष्य में अंग्रेजी के अलावा हिंदी और चीनी भाषा भी सीखनी होगी। लीबिया में दो मिलिशिया समूहों के बीच त्रिपोली में हुई भीषण झड़प में कम से कम 55 लोग मारे गए।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

श्रीलंका के राष्ट्रपति ने कहा, बच्चों को भविष्य में हिंदी, चीनी भाषा सीखनी होगी

 श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने कहा है कि बदलती दुनिया में फिट होने के लिए द्वीप राष्ट्र में बच्चों को भविष्य में अंग्रेजी के अलावा हिंदी और चीनी भाषा भी सीखनी होगी। बुधवार को कोलंबो के एक स्कूल में एक कार्यक्रम में राष्ट्रपति विक्रमसिंघे ने कहा कि भविष्य में फिट होने के लिए श्रीलंका में शिक्षा में भारी बदलाव करना होगा।

राष्ट्रपति ने कहा, “हमें नए विषय पेश करने होंगे। हमारे बच्चों को बदलती दुनिया में फिट होने के लिए अंग्रेजी के अलावा चीनी और हिंदी भाषा भी सीखनी होगी।"

श्रीलंकाई बच्चे स्कूलों में दूसरी भाषा के रूप में अंग्रेजी सीखते हैं। हालांकि उच्च शिक्षा की धाराएं बदलने के साथ, ऐसे कई बच्चे हैं जो विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षाओं के लिए हिंदी और चीनी सीखते हैं।

सिख परिवार ने रॉयल मेल से धोखाधड़ी के लिए चलाया ऑपरेशन

फोटो: IANS
फोटो: IANS

मध्य लंदन में एक सिख परिवार ने रॉयल मेल को 70 मिलियन पाउंड की धोखाधड़ी के लिए एक दशक तक चलने वाले ऑपरेशन में मदद करके लाखों पाउंड खर्च किए। मंगलवार को साउथवार्क क्राउन कोर्ट में सुनवाई के लिए पेश हुए 56 वर्षीय परमजीत संधू और उनके भतीजे 46 वर्षीय बलगिंदर संधू पर 2008 और 2017 के बीच धोखाधड़ी की साजिश रचने का आरोप लगाया गया था।

द इवनिंग स्टैंडर्ड ने अभियोजकों का हवाला देते हुए बताया कि दोनों पैकपोस्ट इंटरनेशनल लिमिटेड के मालिक और धोखाधड़ी के मास्‍टरमाइंड रिश्तेदार नरिंदर संधू के अधीन काम करते थे, जिन्होंने पहले ही अपना दोष स्वीकार कर लिया है।

अदालत को बताया गया कि लखविंदर सेखों (पारिवारिक संबंध नहीं है लेकिन मुकदमे में उपस्थित हुए) के साथ परमजीत और बलगिंदर बकिंघमशायर और बर्कशायर में लॉजिस्टिक्स कंपनियों के नेटवर्क के माध्यम से पोस्ट किए गए मेल को कम घोषित करने की योजना का हिस्सा थे।


कमांडर की गिरफ्तारी के बाद लीबिया में भीषण संघर्ष में 55 की मौत

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एक सैन्य कमांडर की हिरासत के बाद लीबिया की संयुक्त राष्ट्र समर्थित सरकार का समर्थन करने वाले दो मिलिशिया समूहों के बीच त्रिपोली में हुई भीषण झड़प में कम से कम 55 लोग मारे गए और 146 अन्य घायल हो गए। स्थानीय मीडिया रिपोर्टों में ये बात कही गई है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार देर शाम राजधानी त्रिपोली के कुछ हिस्सों में 444 ब्रिगेड और विशेष निरोध बल के बीच हिंसा भड़क उठी। विशेष निरोधक बल ने कथित तौर पर 444 ब्रिगेड के एक शक्तिशाली कमांडर को गिरफ्तार कर लिया।

बुधवार को मरने वालों की संख्या की पुष्टि करते हुए, लीबिया के आपातकालीन चिकित्सा और सहायता केंद्र ने कहा कि पीड़ितों में नागरिक और सुरक्षाकर्मी शामिल हैं, जबकि कई शव अज्ञात हैं। 234 परिवारों को सीमावर्ती क्षेत्रों से निकाला गया, जिसमें 60 एम्बुलेंस तैनात की गईं और हताहतों की संख्या से निपटने के लिए तीन फील्ड अस्पताल स्थापित किए गए।

श्रीलंका ने हवाई क्षेत्र और समुद्र की रक्षा में मदद के लिए भारत को दिया धन्यवाद

फोटो: IANS
फोटो: IANS

श्रीलंका ने समुद्री और तटीय निगरानी अभियानों के माध्यम से द्वीप राष्ट्र के हवाई क्षेत्र और उसके विशेष आर्थिक क्षेत्र सहित समुद्र की रक्षा करने में मदद करने के लिए भारत को धन्यवाद दिया है। भारत के प्रति आभार बुधवार को श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे के वरिष्ठ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सागला रत्नायका की ओर से व्यक्त किया गया, जब वह श्रीलंका वायु सेना को सौंपे गए भारतीय नौसेना के डोर्नियर विमान को स्वीकार कर रहे थे।

डोर्नियर -228 समुद्री निगरानी विमान उस विमान का स्थान लेगा, जो एक साल पहले भारत सरकार द्वारा द्वीप राष्ट्र को सौंपा गया था। अनिवार्य रखरखाव के लिए डोर्नियर को भारत लौटाना पड़ा। जनवरी 2018 में नई दिल्ली में भारत और श्रीलंका के बीच समुद्री निगरानी विमानों के संभावित अधिग्रहण पर द्विपक्षीय सुरक्षा चर्चा के दौरान श्रीलंका के अनुरोध के बाद दो साल की अवधि के लिए भारतीय नौसेना के बेड़े का हिस्सा डोर्नियर को  श्रीलंका को मुफ्त में दिया था। 


2023 अंतर्राष्ट्रीय यंग इको-हीरो पुरस्कार विजेताओं में पीआईओ, भारतीय शामिल

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारत और अमेरिका के नौ युवा उन 17 पर्यावरण कार्यकर्ताओं में शामिल हैं, जिन्हें दुनिया की सबसे गंभीर पर्यावरणीय चुनौतियों से निपटने के लिए उनकी पहल के लिए 2023 अंतर्राष्ट्रीय युवा इको-हीरो पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

अमेरिका स्थित गैर-लाभकारी एक्शन फॉर नेचर द्वारा प्रस्तुत यह पुरस्कार पर्यावरण के बारे में जागरूकता बढ़ाने और कठिन पर्यावरणीय समस्याओं के अभिनव समाधान खोजने के लिए आठ से 16 वर्ष की आयु के युवाओं को सम्मानित करता है। भारत के पांच पर्यावरण-योद्धाओं में -- मेरठ से ईहा दीक्षित, बेंगलुरु से मान्या हर्ष, नई दिल्ली से निर्वाण सोमानी और मन्नत कौर और मुंबई से कर्णव रस्तोगी -- शामिल हैं।

भारतीय-अमेरिकी में कैलिफोर्निया से सात्विका अय्यर, टेक्सस से राहुल विजयन और अनुष्का गोडाम्बे और इलिनॉयस से नित्या जक्का शामिल हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;