दुनिया: चीन में सेंसरशिप के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन और तालिबान सरकार से नाराज हुआ पाकिस्तान?

चीन में एंटी-वायरस लॉकडाउन के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच लोगों ने सेंसरशिप और बोलने की आजादी पर प्रतिबंध के खिलाफ भी प्रदर्शन किया। सनाउल्लाह ने कहा कि आतंकी गतिविधियों में वृद्धि चिंताजनक है, लेकिन स्थिति काबू से बाहर नहीं हुई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

टीटीपी की आतंकी गतिविधियों पर अफगान तालिबान को फिक्रमंद होना चाहिए : पाकिस्तान

फोटो: IANS
फोटो: IANS

पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री राना सनाउल्लाह ने गुरुवार को कहा कि पाकिस्तान के भीतर आतंकवादी गतिविधियों में टीटीपी आतंकवादियों की संलिप्तता अफगान तालिबान के लिए चिंता का विषय होना चाहिए, क्योंकि वे क्षेत्रीय शांति के लिए खतरनाक हैं। जियो न्यूज के मुताबिक, मंत्री क्वेटा में आत्मघाती हमले के बाद देश में समग्र सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए एक बैठक में भाग लेने के बाद यहां मीडिया से बात कर रहे थे।

सनाउल्लाह ने कहा कि आतंकी गतिविधियों में वृद्धि चिंताजनक है, लेकिन स्थिति काबू से बाहर नहीं हुई है। उन्होंने खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान की प्रांतीय सरकारों से कहा कि इससे पहले कि संघीय सरकार मामले को अपने हाथ में ले, इसका समाधान किया जाए। प्रतिबंधित संगठन द्वारा क्वेटा हमले का दावा करने के एक दिन बाद मंत्री ने कहा, "टीटीपी अफगानिस्तान में हर तरह की सुविधाओं का आनंद ले रहा है।"

चीन में सेंसरशिप के खिलाफ प्रदर्शन, लोगों ने कोरे कागज की चादरें लहराईं, नारे लगाए

फोटो: IANS
फोटो: IANS

चीन में एंटी-वायरस लॉकडाउन के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच लोगों ने सेंसरशिप और बोलने की आजादी पर प्रतिबंध के खिलाफ भी प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने विरोध प्रदर्शित करने के लिए कोरे कागज की चादरें लहराईं और सरकार विरोधी नारे लगाए। मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। आरएफए की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले सप्ताह के अंत में कागज की शीटों को पकड़े हुए भीड़ के वीडियो और नारे लगाते हुए इंटरनेट पर बाढ़ आ गई। एक दर्जन से अधिक शहरों में हुए प्रदर्शनों को सोशल मीडिया पर चीनी भाषा में किए गए पोस्टों में ने 'श्वेत पत्र क्रांति' कहा गया।

चीनी नेतृत्व को चुनौती देने के लिए दशकों बाद इस तरह के प्रदर्शन हुए। पुलिस ने सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया और विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने छात्रों को जबरन घर भेज दिया गया। चीन में विरोध के प्रतीक के रूप में कोरे कागज की खाली शीट का उपयोग करना कोई नई बात नहीं है।


यूक्रेन दूतावास विस्फोट के बाद स्पेन पुलिस चार और उपकरणों की जांच कर रही

फोटो: IANS
फोटो: IANS

स्पेन की राजधानी मैड्रिड में यूक्रेन के दूतावास में विस्फोट हुआ था। मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि विस्फोट के एक दिन बाद स्पेन की पुलिस चार और इनकेंडरी उपकरणों और लेटर बम की जांच कर रही है। रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को दूतावास के एक कर्मचारी के द्वारा खोलने पर पहला लेटर बम फट गया था। जिसमें उसके हाथों में मामूली चोटें आईं थी। वहीं यूक्रेन ने अपने राजनयिकों को अपनी सुरक्षा सावधानियों को मजबूत करने की चेतावनी दी है।

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, दूसरा लेटर बम आरागॉन क्षेत्र के जरागोजा में इंस्टालाजा हथियार कंपनी में घंटों बाद खोजा गया जो सी90 रॉकेट लॉन्चर बनाती है। हालांकि, बम स्क्वायड अधिकारियों ने बम निष्क्रिय कर दिया गया था।

सैन्य, आर्थिक ताकत दिखाने के लिए पाक पर निर्भर चीन : पेंटागन

पेंटागन ने एक रिपोर्ट में कहा है कि चीन अपनी सैन्य और आर्थिक ताकत दिखाने के लिए पाकिस्तान पर निर्भर है क्योंकि इस्लामाबाद बीजिंग का प्रमुख सहयोगी बना हुआ है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, वाशिंगटन में रक्षा विभाग द्वारा जारी चाइना मिल्रिटी पावर 2022 रिपोर्ट में जांच की गई है कि कैसे चीन 2049 तक अपने राष्ट्रीय कायाकल्प उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए पाकिस्तान जैसे अंतरराष्ट्रीय भागीदारों की मदद लेना चाहता है।

रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने पाकिस्तान को अपना एकमात्र सदाबहार रणनीतिक साझेदार जबकि रूस को समन्वय संबंधों के साथ व्यापक रणनीतिक साझेदार के रूप में दर्जा दिया है। पिछले पांच वर्षों के दौरान, चीन ने अपने दोनों ऐतिहासिक भागीदारों, पाकिस्तान और रूस के साथ संबंधों का विस्तार किया है। पाकिस्तान भी उन जगहों में से एक है, जहां चीन ने सैन्य रसद सुविधाओं के लिए स्थानों के रूप में माना।"


बर्फीले तूफान में फंसे लोगों की कनाडा के सिखों ने की मदद

फोटो: IANS
फोटो: IANS

कनाडा में एक सिख गुरुद्वारे के स्वयंसेवक बफीर्ले तूफान में फंसी गाड़ियों के ड्राइवरों की मदद के लिए आगे आए, उन्होंने फंसे लोगों के लिे भोजन, चाय और आश्रय स्थल की व्यवस्था की। भारी हिमपात के कारण वैंकूवर के आसपास के पुल और राजमार्ग अवरुद्ध हो गए, जिससे कई वाहन चालक फंस गए। ग्लोबल न्यूज चैनल ने बताया कि, ड्राइवरों ने मंगलवार रात न्यू वेस्टमिंस्टर क्वींसबोरो ब्रिज और हाईवे 91 पर घंटों तक फंसे रहने की सूचना दी, उनमें गुरुद्वारा साहिब सुख सागर के स्वयंसेवकों का एक समूह भी मौजूद था। समूह ने गुरुद्वारे की ओर अपना रास्ता बनाया, जो कि क्वींसबोरो की तरफ पुल से सटा हुआ था और फंसे हुए लोगों के लिए गर्म चाय और स्नैक्स पैक करके वापस आए।

सूर्यास्त के बाद भी यातायात स्थिर था, स्वयंसेवकों ने वाहनों में फंसे लोगों के लिए भोजन पकाने के लिए मंदिर की रसोई का उपयोग करने का निर्णय लिया। खालसा दीवान सोसाइटी ऑफ न्यू वेस्टमिंस्टर के प्रवक्ता अमनदीप सिंह गरचा ने कहा, हमने फैसला किया कि हमें 200 से 300 लोगों का खाना तुरंत तैयार करना चाहिए ताकि हम बर्फीले तूफान में फंसे लोगों को समय पर खाना खिला सकें। हमने बस सोचा कि हमें यह करना है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;