दुनिया की 5 बड़ी खबरें: जानें कितनी है ओमिक्रॉन संक्रमित मरीजों में मौत की संभावना और काबुल में बिजली गुल

ओमिक्रॉन वैरिएंट कोविड-19 के अन्य वैरिएंट्स की तुलना में काफी कम गंभीर है। अफगानिस्तान के विद्युत निकाय डीएबीएस ने कहा कि देश में उज्बेकिस्तान बिजली आपूर्ति में 60 फीसदी की कमी आई है, जिससे काबुल में बिजली गुल (ब्लैकआउट) हो गई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

ओमिक्रॉन संक्रमित मरीजों में मौत की संभावना 91 फीसदी कम: सीडीसी

ओमिक्रॉन वैरिएंट कोविड-19 के अन्य वैरिएंट्स की तुलना में काफी कम गंभीर है। यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, एजेंसी के अनुसार, डेल्टा वैरिएंट के जोखिम की तुलना में ओमिक्रॉन के कारण अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम आधा है।

डेल्टा की तुलना में अस्पताल में भर्ती लोगों में, उन्हें गहन देखभाल या आईसीयू में भर्ती करने की आवश्यकता जैसी संभावना 75 प्रतिशत कम है और मृत्यु दर भी डेल्टा की तुलना में 91 प्रतिशत कम है। हालांकि यह लंबे समय से स्वास्थ्य अधिकारियों और विशेषज्ञों द्वारा पहले भी बताया गया है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट इससे पहले के वैरिएंट्स की तुलना में इतना घातक नहीं है। इसकी वजह से ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और भारत में कुछ ही मौतें हुई हैं।

भारत रूसी रक्षा उपकरण खरीदने के मामले में अमेरिकी प्रतिबंधों से बच सकता है

फोटो: IANS
फोटो: IANS

विश्व के अन्य देशों पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई करने वाले शीर्ष अधिकारी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के सहयोगी जेम्स ओ'ब्रायन ने संकेत दिया है कि रूस से एस400 ट्रायम्फ मिसाइल रोधी रक्षा प्रणाली खरीदने के मामले में भारत प्रतिबंधों से बच सकता है।

प्रतिबंध नीति के समन्वयक के लिए नामित जेम्स ओ'ब्रायन ने बुधवार को कहा कि भारत पर प्रतिबंधों पर विचार करने में उसकी भौगोलिक स्थिति और उसके पड़ोसियों के साथ संबंध महत्वपूर्ण विचार हैं, विशेष रूप से चीन के साथ संबंध और इसलिए हमें यह देखना होगा कि इस मामले में क्या संतुलन है।

सीनेट की विदेश मामलों की समिति के सामने जब वह अपनी पुष्टिकरण सुनवाई के लिए पेश हुए, तो रिपब्लिकन सीनेटर टॉड यंग ने ओ'ब्रायन से उस निकाय के भारत के खिलाफ मंजूरी देने के बारे में पूछा, जिसमें रूसी रक्षा उपकरण खरीदने वाले देशों के खिलाफ प्रतिबंधों की आवश्यकता होती है । इस पर उन्होंने कहा कि इस मामले में विचार करने से पहले हमें भारत की स्थिति और उसके पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को भी देखना जरूरी है।


चीन और वियतनाम के प्रधानमंत्रियों ने फोन पर बात की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने 13 जनवरी को पेइचिंग में निमंत्रण पर वियतनामी प्रधानमंत्री फाम मिंह चिंह के साथ फोन पर बातचीत की । दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों ने एक दूसरे को नये साल की शुभकामनाएं दीं । ली खछ्यांग ने कहा कि नये साल में चीन वियतनाम के साथ विभिन्न क्षेत्रों की आवाजाही को बढ़ाएगा । आर्थिक व व्यापारिक सहयोग दोनों देशों के सहयोग का अहम क्षेत्र है। चीन वियतनाम के अच्छे कृषि उत्पादों के चीन आने में कस्टम क्लियररेंस के लिए अधिक सुविधाएं प्रदान करना चाहता है।

उन्होंने कहा कि चीन वियतनाम समेत आरसीईपी के अन्य साझेदारों के साथ अधिक उच्च स्तरीय क्षेत्रीय एकीकरण बढ़ाने को तैयार है। फान मिंह चिंह ने कहा कि चीन वियतनाम का विशेष साझेदार है ।वियतनाम-चीन संबंधों को मजबूत करना वियतनाम की कूटनीति की प्राथमिकता है । वियतनाम चीन के साथ मतभेदों का उचित समाधान कर द्विपक्षीय संबंधों को निरंतर प्रगाढ़ करेगा ।

उज्बेकिस्तान से बिजली आपूर्ति ठप होने से काबुल में बिजली गुल

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अफगानिस्तान के विद्युत निकाय दा अफगानिस्तान ब्रेशना शेरकट (डीएबीएस) ने कहा कि देश में उज्बेकिस्तान बिजली आपूर्ति में 60 फीसदी की कमी आई है, जिससे काबुल में बिजली गुल (ब्लैकआउट) हो गई है। खामा प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, डीएबीएस के प्रवक्ता हिकमतुल्लाह मैवंडी ने एक वीडियो क्लिप में कहा कि उज्बेकिस्तान ने एकतरफा फैसला किया है और उन्हें इसकी जानकारी नहीं दी गई है।

मैवंडी ने कहा कि उज्बेकिस्तान ने कमी के लिए तकनीकी समस्याओं का हवाला दिया है और कहा कि इस मुद्दे को दो या तीन दिनों में हल किया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि डीएबीएस के अधिकारियों ने कहा कि उज्बेकिस्तान से बिजली के आयात में कमी के कारण काबुल सहित 16 प्रांतों में बिजली की किल्लत हुई है, जिससे ब्लैकआउट हो गया है।


थाईलैंड अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए नया पर्यटन अभियान शुरू करेगा

फोटो: IANS
फोटो: IANS

थाईलैंड के प्रधान मंत्री प्रयुत चान-ओ-चा ने 'अमेजिंग थाईलैंड न्यू चैप्टर' थीम के तहत एक नया पर्यटन अभियान शुरू करने का आदेश दिया है, जिसका उद्देश्य बुरी तरह से प्रभावित पर्यटन क्षेत्र को पुनर्जीवित करना है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार के प्रवक्ता थानाकोर्न वांगबूनकोंगचाना के अनुसार, अभियान का उद्देश्य पर्यटन की स्थिरता और सुरक्षा को सुविधाजनक बनाना है।

थानाकोर्न ने कहा कि सरकार ने आने वाले पर्यटकों के लिए प्रति व्यक्ति 300 थाई बात यानी (9 डॉलर) का प्रवेश शुल्क शुरू करने की भी योजना बनाई है। उन्होंने कहा कि यह शुल्क हवाई किराए में शामिल किया जाएगा और इसका उपयोग पर्यटकों के आकर्षण के साथ-साथ पर्यटकों के बीमा के लिए किया जाएगा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia