दुनिया की 5 बड़ी खबरें: पंजशीर को लेकर सस्पेंस बरकरार और अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद क्यों खुश हैं पाकिस्तानी?

अफगानिस्तान में हालिया घटनाक्रम को लेकर ऐसा लगता है कि यह पाकिस्तान में एक स्वागत योग्य समाचार के रूप में आया है। पंजशीर के विद्रोही गुट ने तालिबान की ओर से प्रांत पर कब्जा करने के दावे का खंडन किया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे से पाकिस्तानी खुश, सरकार सतर्क

अमेरिका समर्थित नाटो बलों की वापसी और तालिबान के हाथों में अफगानिस्तान का नियंत्रण आने के बाद विभिन्न वैश्विक शक्तियों और दिग्गजों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं देखी गई हैं, क्योंकि वे तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार की स्थापना को मान्यता देने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

यह सीमित या कोई अन्य विकल्प के साथ आगे बढ़ने का एकमात्र तरीका प्रतीत होता है।
काबुल के पतन और अफगान तालिबान द्वारा अधिग्रहण पर एक तरफ अन्य देशों से बेचैनी की प्रतिक्रिया देखी गई है, जो अभी भी अशरफ गनी सरकार और अफगान बलों के चौंकाने वाले पतन को समझने की कोशिश कर रहे हैं, जिन्होंने सचमुच बहुत जल्दी तालिबान के सामने आत्मसमर्पण कर दिया और उनके हाथों में अफगानिस्तान का नियंत्रण सौंप दिया।

इसके बाद से भ्रमित और अनिश्चित चिंतन हर कहीं जारी है, मगर अफगानिस्तान में हालिया घटनाक्रम को लेकर ऐसा लगता है कि यह पाकिस्तान में एक स्वागत योग्य समाचार के रूप में आया है। कई पाकिस्तानी काबुल के पतन का जश्न मना रहे हैं और इस पर उनका कहना है कि पाकिस्तान को अस्थिर करने के लिए कथित भारतीय प्रयासों की हार हुई है, इसलिए वह खुश हैं।

पंजशीर के विद्रोही गुट ने तालिबान की ओर से प्रांत पर कब्जे के दावे का किया खंडन

फोटो: IANS
फोटो: IANS

पंजशीर के विद्रोही गुट ने तालिबान की ओर से प्रांत पर कब्जा करने के दावे का खंडन किया है। नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट (एनआरएफ) ने एक ट्वीट में कहा, तालिबान का पंजशीर पर कब्जा करने का दावा झूठा है। एनआरएफ बल लड़ाई जारी रखने के लिए घाटी में सभी रणनीतिक पदों पर मौजूद हैं। हम अफगानिस्तान के लोगों को आश्वस्त करते हैं कि तालिबान और उनके सहयोगियों के खिलाफ संघर्ष तब तक जारी रहेगा, जब तक न्याय और स्वतंत्रता नहीं मिलती।

दावा किया गया है कि तालिबानी लड़ाकों ने आखिरी होल्डआउट पंजशीर प्रांत पर पूरी तरह कब्जा कर लिया है।

खामा न्यूज ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि कार्यवाहक संस्कृति और सूचना मंत्री एवं तालिबान के प्रवक्ता, जबीउल्लाह मुजाहिद ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रव्यापी सुरक्षा की स्थापना के उनके प्रयास सफल रहे हैं और प्रांत को अल्लाह की मदद और लोगों के समर्थन से हासिल कर लिया गया है।


लीबिया ने दिवंगत नेता गद्दाफी के बेटे को रिहा किया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

लीबिया के अधिकारियों ने देश के दिवंगत नेता मुअम्मर गद्दाफी के बेटे सादी गद्दाफी को रिहा कर दिया है। अटॉर्नी जनरल के कार्यालय के एक सूत्र ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया कि सादी पर 2005 में एक फुटबॉल खिलाड़ी और लीबिया की राष्ट्रीय टीम के कोच की हत्या में कथित संलिप्तता के आरोप में मुकदमा चल रहा था। उस अब रिहा कर दिया गया है।

उन्हें अप्रैल 2018 में इस मामले में बरी कर दिया गया था।

स्थानीय मीडिया के अनुसार, 27 वर्षीय सादी अपनी रिहाई के तुरंत बाद तुर्की के लिए रवाना हो गए, और अपने परिवार के कुछ सदस्यों के साथ मिस्र जाने की योजना बना रहे है।

पाक-अफगान तोरखम सीमा पर तालिबान की मौजूदगी से स्थानीय लोगों में भय का माहौल

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अफगानिस्तान में अशरफ गनी सरकार को हटाने और तालिबान द्वारा तेजी से अधिग्रहण करने से निश्चित रूप से वैश्विक शक्तियां सदमे की स्थिति में आ गई हैं। तालिबान ने एक आक्रामक तरीके से अफगानिस्तान पर नियंत्रण कर लिया है, जिसमें न केवल विदेशी बलों को देश से बाहर करने के लिए 20 दिनों से भी कम समय लगा, बल्कि गनी सरकार और उसके सुरक्षा बलों को खदेड़ते हुए काबुल में भी धावा बोल दिया गया और बिना किसी उल्लेखनीय प्रतिरोध के उन्होंने विद्रोहियों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

तालिबान ने अफगानिस्तान में नियंत्रण करने के बाद तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के कई वरिष्ठ नेताओं सहित सभी तालिबान कैदियों को मुक्त कर दिया है। इसने पाकिस्तानी तालिबान आतंकवादियों को अपने स्लीपर सेल को फिर से सक्रिय करने और पाकिस्तान के विभिन्न हिस्सों में फिर से उभरने का मौका दिया है, जिनमें से अधिकांश अफगानिस्तान के साथ लगती सीमा पर हैं।


तालिबान के साथ बातचीत के लिए अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के मानवीय प्रमुख

फोटो: IANS
फोटो: IANS

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने मानवीय मामलों के अवर महासचिव मार्टिन ग्रिफिथ्स को तालिबान नेतृत्व के साथ बातचीत के लिए काबुल भेजा है। विश्व निकाय के एक शीर्ष अधिकारी ने इसकी पुष्टि की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने गुटेरस के प्रवक्ता स्टेफन दुजारिक के हवाले से कहा, "महासचिव के अनुरोध पर, मार्टिन ग्रिफिथ्स इस समय काबुल में हैं। आज (रविवार) की अपनी यात्रा के दौरान, ग्रिफिथ्स ने मानवीय मुद्दों पर अधिकारियों के साथ बातचीत करने के लिए काबुल में मुल्ला बरादर और तालिबान के नेतृत्व से मुलाकात की।"

बयान में कहा गया है कि इस बैठक में ग्रिफिथ्स ने लाखों लोगों को निष्पक्ष और स्वतंत्र मानवीय सहायता और सुरक्षा प्रदान करने के लिए मानवीय समुदाय की प्रतिबद्धता को दोहराया।
बयान के अनुसार, ग्रिफिथ्स ने सहायता प्रदान करने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया और सभी पक्षों से उनके अधिकारों, सुरक्षा और कल्याण को सुनिश्चित करने का आह्वान किया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia