दुनिया: जेलेंस्की बोले- 'साफ नहीं है कि जिंदा हैं पुतिन', LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जिनपिंग ने लिया जायजा

भारत से सीमा विवाद के बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने लद्दाख के करीब LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जायजा लिया और यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा कि ये साफ नहीं है कि अभी भी पुतिन जिंदा हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने लद्दाख के करीब LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का लिया जायजा

दुनिया: जेलेंस्की बोले- 'साफ नहीं है कि जिंदा हैं पुतिन', LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जिनपिंग ने लिया जायजा

लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद के बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सैनिकों द्वारा की जा रही युद्ध की तैयारियों का जायजा लिया। चीन की आधिकारिक मीडिया ने शुक्रवार को इस संबंध में जानकार दी। उसने बताया कि राष्ट्रपति जिनपिंग ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) मुख्यालय से शिनजियांग सैन्य कमान के तहत खंजराब में सीमा पर तैनात सैनिकों को संबोधित भी किया। मीडिया में दिखाए गए वीडियो के मुताबिक, जिनपिंग ने सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि किस प्रकार 'हाल के वर्षों में, क्षेत्र में लगातार बदलाव हो रहा है' और इसने सेना को प्रभावित किया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, सैनिकों में से एक ने जवाब दिया कि वे अब '24 घंटे' सीमा की निगरानी कर रहे हैं। जिनपिंग ने उनकी स्थिति के साथ ही यह भी पूछा कि क्या उन्हें दुर्गम इलाके में ताजी सब्जियां मिल रही हैं। उन्होंने जवानों से सीमा पर उनकी गश्त और प्रबंधन कार्य के बारे में भी पूछा।

यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा, ये साफ नहीं है कि अभी भी जिंदा हैं पुतिन

दुनिया: जेलेंस्की बोले- 'साफ नहीं है कि जिंदा हैं पुतिन', LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जिनपिंग ने लिया जायजा

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में कि उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन जीवित हैं या नहीं। उन्होंने यह टिप्पणी तब की जब उन पर यह जानने के लिए दबाव डाला गया कि शांति वार्ता कब शुरू होगी। जेलेंस्की की टिप्पणी का एक वीडियो ट्विटर पर सामने आया है। इस पर रूसी नेताओं ने पलटवार करते हुए कहा कि यूक्रेनी राष्ट्रपति न तो रूस और न ही पुतिन का अस्तित्व में रहना पसंद करेंगे।


ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक ने कार चलाते समय कर दी ये गलती, मांगनी पड़ी माफी

दुनिया: जेलेंस्की बोले- 'साफ नहीं है कि जिंदा हैं पुतिन', LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जिनपिंग ने लिया जायजा

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक फिर सुर्खियों में हैं। इस बार वह माफी मांगने को लेकर सुर्खियों में हैं। सुनक ने उत्तर-पश्चिम इंग्लैंड में गाड़ी चलाते समय सोशल मीडिया के लिए वीडियो बनाने के दौरान अपनी सीट बेल्ट हटा ली थी। अब उन्होंने सीट बेल्ट हटाने की गलती के लिए माफी मांगी है। सुनक के डाउनिंग स्ट्रीट के प्रवक्ता ने कहा कि उन्होंने केवल थोड़ी देर के लिए अपनी सीट बेल्ट हटाई थी और वह मानते हैं कि उन्होंने गलती की है।

 बता दें कि ब्रिटेन में कार में सीट बेल्ट न लगाने पर 100 पाउंड का ‘ऑन-द-स्पॉट’ जुर्माना वूसलने का प्रावधान है। अगर मामला कोर्ट में जाता है तो यह बढ़कर 500 पाउंड तक जा सकता है। सुनक के सीट बेल्ट न लगाने का वीडियो जब सोशल मीडिया पर सामने आया तो न सिर्फ उन्होंने अपनी गलती मानी बल्कि उन्होंने माफी भी मांगी।

नवाज शरीफ बोले- पाकिस्तान की बदहाली के लिए जनरल फैज, जनरल बाजवा हैं जिम्मेदार

दुनिया: जेलेंस्की बोले- 'साफ नहीं है कि जिंदा हैं पुतिन', LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जिनपिंग ने लिया जायजा

2018 में इमरान खान की पीटीआई सरकार स्थापित करने को लेकर पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री और पीएमएल-एन सुप्रीमो नवाज शरीफ ने जनरल (सेवानिवृत्त) बाजवा और लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) फैज हमीद को निशाना बनाया है। द न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, गृह मंत्री राणा सनाउल्लाह सहित अपनी पार्टी के सहयोगियों के साथ बातचीत के बाद लंदन में मीडिया से बात करते हुए, शरीफ ने लोगों को 16 अक्टूबर, 2020 को एक पीडीएम रैली में अपने गुजरांवाला भाषण की याद दिलाई, जिसमें उन्होंने पूर्व सेना प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) कमर बाजवा और पूर्व आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) फैज हमीद पर चुनावों में धांधली करने, संविधान का उल्लंघन कर खान को प्रधानमंत्री के रूप में स्थापित करने, उनकी सरकार को हटाने, मीडिया का मुंह बंद करने, न्यायपालिका पर दबाव बनाने और विपक्षी नेताओं को पीड़ित करने का सीधा आरोप लगाया था।

शरीफ ने कहा कि उन्होंने गुजरांवाला के भाषण में इस ओर इशारा किया था कि पाकिस्तान की बदहाली के लिए कौन जिम्मेदार है और कैसे लोगों के एक समूह ने देश पर कब्जा करने की साजिश रची। द न्यूज ने हाल ही में खबर दी थी कि शरीफ ने पाकिस्तान को बर्बादी के करीब लाने के लिए चार लोगों- सेवानिवृत्त न्यायाधीश साकिब निसार, आसिफ सईद खोसा, जनरल (सेवानिवृत्त) बाजवा, लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) फैज हमीद और इमरान खान को जिम्मेदार ठहराया था।


इंटरपोल ने मेहुल चोकसी के अपहरणकर्ताओं के खिलाफ जारी किए तीन रेड कॉर्नर नोटिस

दुनिया: जेलेंस्की बोले- 'साफ नहीं है कि जिंदा हैं पुतिन', LAC पर तैनात सैनिकों की युद्ध तैयारी का जिनपिंग ने लिया जायजा

इंटरपोल ने मई 2021 में भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी के अपहरण और प्रताड़ना के संदिग्ध लोगों के खिलाफ तीन रेड कॉर्नर नोटिस जारी किए हैं। ये कदम एंटीगुआ और बारबुडा के अधिकारियों के अनुरोध पर उठाए गए थे। द्वीप राष्ट्र के पुलिस बल द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है: उन रेड नोटिसों को मंजूरी दी गई थी (देश के एक मजिस्ट्रेट कोनलिफ क्लार्क द्वारा) और जारी किया गया था (इंटरपोल द्वारा)।

इंटरपोल नोटिस भारतीय कानून प्रवर्तन और खुफिया एजेंसियों के लिए एक झटका है, जो चोकसी पर पंजाब नेशनल बैंक को 13,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हैं और भारत में उससे पूछताछ करना चाहते हैं। चोकसी इस आरोप से इनकार करते हैं और जोर देकर कहते हैं कि उनकी कंपनियों ने बैंक से लिए गए कर्ज पर कभी डिफॉल्ट नहीं किया।

 चोकसी 2017 से एंटीगुआ और बारबुडा का नागरिक है, ने शिकायत की कि उसे पीटा गया, आंखों पर पट्टी बांध दी गई और जबरन एंटीगुआ से वेस्टइंडीज के एक अन्य द्वीप डोमिनिका तक एक नाव पर ले जाया गया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;