लोकसभा चुनाव 2019

लोकसभा चुनाव में एनडीए ने राष्ट्रवाद और सेना की मार्केटिंग की : मांझी

जीतन राम मांझी ने कहा, “2019 के चुनाव का परिणाम अप्रत्याशित रहा। बीजेपी और एनडीए राष्ट्रवाद एवं सर्जिकल स्ट्राइक को चुनावी मुद्दा बनाकर लोगों के बीच ले गए तथा सेना की मार्केटिंग की गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

आईएएनएस

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने यहां शनिवार को कहा कि 2014 के चुनाव के मुद्दे को दरकिनार कर इस चुनाव में राष्ट्रवाद, हिंदुत्व, सवर्ण आरक्षण, सर्जिकल स्ट्राइक, देश की अखंडता और एकता के मुद्दे को समाज में परोसा गया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) द्वारा राष्ट्रवाद और सेना की मार्केटिंग की गई।

पटना में एक संवाददाता सम्मेलन में मांझी ने कहा, "2019 के चुनाव का परिणाम अप्रत्याशित रहा। बीजेपी और एनडीए राष्ट्रवाद एवं सर्जिकल स्ट्राइक को चुनावी मुद्दा बनाकर लोगों के बीच ले गए तथा सेना की मार्केटिंग की गई। हिंदुत्व और राष्ट्रवाद को गरीब तबके के लोगों तक पहुंचाया गया और चुनावी लाभ के लिए इन मुद्दों को उठाकर लोगों को भरमाया गया।"

महागठबंधन के घटक दल हम के अध्यक्ष मांझी ने कहा, "चुनाव में पुलवामा की घटना की चर्चा नहीं कर एनडीए ने सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा की। पुलवामा में आरडीएक्स कैसे आया, इसकी चर्चा हम आमजन में नहीं कर पाए, जो महागठबंधन की हार का कारण बना।" पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में मांझी ने कहा कि बिहार विधानसभा के चुनाव में ठीक इसके विपरीत महागठबंधन के पक्ष में जीत हासिल होगी।

उन्होंने कहा, "हमारे पास विधि व्यवस्था की गिरती हालत, महंगाई जैसे मुद्दे हैं। इन मुद्दों के आधार पर विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा। निश्चित तौर पर महागठबंधन सभी बिंदुओं पर विचार-विमर्श कर आगामी विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन कर लोगों का समर्थन प्राप्त करेगा।" मांझी ने लोकसभा चुनाव जीतने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विजयी हुए सभी उम्मीदवारों को अपनी ओर से बधाई दी।

लोकप्रिय