महाराष्ट्र में 57.01 फीसदी मतदाताओं ने डाले वोट, छत्तीसगढ़ में 7 सीटों पर 65 प्रतिशत मतदान  

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में महाराष्ट्र के 14 लोकसभा सीटों पर 57.01 फीसदी मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया। वहीं छत्तीसगढ़ में 7 सीटों पर 65 प्रतिशत मतदान हुआ।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए तीसरे चरण का मतदान मंगलवार को समाप्त हो गया। इस चरण में महाराष्ट्र के 14 लोकसभा सीटों पर भी वोट डाले गए। इन निर्वाचन क्षेत्रों में शाम पांच बजे तक 57.01 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। निर्वाचन अधिकारियों ने यह जानकारी दी। मतदान चूंकि शाम छह बजे के बाद तक चलने की खबर है, निर्वाचन अधिकारियों को मतदान लगभग 60 प्रतिशत तक दर्ज होने का अनुमान है। राज्य में जलगांव, रावर, जालना, औरंगाबाद, रायगढ़, पुणे, बारामती, अहमदनगर, माधा, सांगली, सतारा, रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग, कोल्हापुर और हातकणंगले निवार्चन क्षेत्रों में मतदान संपन्न हो गया।

कोल्हापुर में सबसे ज्यादा 65.70 प्रतिशत मतदान हुआ, जबकि सबसे कम पड़ोसी पुणे में 43.63 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। अपेक्षाकृत अधिक मतदान वाले अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में हातकणंगले (64.79 प्रतिशत), संगली (59.39), औरंगाबाद (58.52 प्रतिशत), अहमदनगर (57.75) और रत्नागिरि-सिंधुदुर्ग (57.63 प्रतिशत), जालना (59.92) शामिल हैं। कम मतदान वाले अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में रावर (56.98 प्रतिशत), माधा (56.41), रायगढ़ (56.14), बारामती (55.84), सतारा (55.40) और जलगांव (52.28 प्रतिशत) शामिल हैं।

राज्य की 14 सीटों के लिए लगभग दो करोड़ मतदाताओं ने 249 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला ईवीएम में दर्ज किया। मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर केंद्रीय मंत्री व शिवसेना प्रत्याशी अनंत गीते, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष रावसाहेब दानवे-पाटिल सहित कई राजनीतिक दिग्गजों की किस्मत का फैसला किया जो ईवीएम में सील हो चुका है। मतों की गणना 23 मई को होगी।

मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)- शिवसेना और विपक्षी कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के बीच है। इसके अलावा दलित-मुस्लिम मोर्चा वंचित बहुजन आघाड़ी (वीबीए) में प्रकाश अंबेडकर की भारिपा बहुजन महासंघ और ओवैसी भाइयों की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन और कुछ स्थानीय/क्षेत्रीय दल शामिल हैं।

मतदान करने वालों में दानवे-पाटिल, एनसीपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री अजीत पवार अपने परिवार के साथ और बॉलीवुड अभिनेता अमोल पालेकर और उनके परिवार और अन्य शामिल रहे। इन 14 सीटों में से नौ बीजेपी-शिवसेना के पास हैं, जबकि चार एनसीपी के पास हैं। एक सीट शेतकारी स्वाभिमानी संघटना (एसएसएस) के पास है।

वहीं छत्तीसगढ़ की बाकी बची सात सीटों के लिए भी मंगलवार को 1.27 करोड़ मतदाताओं में करीब 65 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। यहां कुल सात सीटों के लिए 123 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

मतदान अधिकारियों ने कहा कि अंतिम आंकड़ा 70 प्रतिशत के पार जा सकता है। राज्य में मतदान शांतिपूर्वक तरीके से हुए। राज्य की कुल 11 सीटों में से नक्सलवाद प्रभावित बस्तर में मतदान 11 अप्रैल को पहले चरण के अंतर्गत और तीन क्षेत्रों महासमुंद, कांकेर और राजनंदगांव में 18 अप्रैल को ही मतदान हो गए थे।

मंगलवार को जिन सीटों के लिए मतदान हुए हैं, उनमें रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर, कोरबा, जांजगीर-चंपा( एससी), सरगुजा(एसटी), रायगढ़(एसटी) शामिल हैं।

पिछले वर्ष दिसंबर में बीजेपी के 15 वर्षो के शासन को समाप्त करने वाली कांग्रेस ने दावा किया है कि वह यहां अधिकतर सीटों पर जीत हासिल करेगी।

भारतीय जनता पार्टी ने जबकि कहा कि वह अपने 2014 के प्रदर्शन को दोहराएगी, जहां उसने 11 सीटों में से 10 पर जीत दर्ज की थी।

लोकप्रिय