काशी मंदिर में 10 भ्रष्ट पुजारियों के पूजा करने पर लगी रोक, भक्तों से वसूली और दुर्व्यवहार के आरोपों पर कार्रवाई

संभागीय आयुक्त ने कहा कि पुजारियों के खिलाफ शिकायतों की पुष्टि के बाद वरिष्ठ पुजारियों और मंदिर प्रबंधकों की एक बैठक बुलाई गई, जिसमें यह स्पष्ट किया गया कि पवित्र मंदिर की छवि को खराब करने वालों को मंदिर में काम करने नहीं देने दिया जाएगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर के अंदर दस पुजारियों के पूजा करने पर रोक लगा दी गई है। मंदिर में भक्तों के प्रवेश की सुविधा के लिए रखे गए निशुल्क शास्त्री' के नाम से चर्चित इन पुजारियों पर भ्रष्टाचार और दुर्व्यवहार के आरोप लगने पर मंदिर प्रशासन यह कार्रवाई करते हुए उनके पहचान पत्र भी रद्द कर दिए हैं।

वाराणसी के संभागीय आयुक्त दीपक अग्रवाल ने बताया कि मंदिर में कुछ पुजारियों को इसलिए नियुक्त किया गया था, ताकि टिकट खरीदने के बाद भक्तों को प्रवेश की सुविधा मिल सके, खासकर 'सुगम दर्शन' के लिए, ताकि कतारों में लंबा समय न लगे। लेकिन आरोप लगने लगे कि बाद में भक्तों को मंदिर के अंदर ले जाकर ये पुजारी उनसे जबरन दूध निकालने की रस्म अदा करते थे।

संभागीय आयुक्त ने कहा कि इन पुजारियों के खिलाफ शिकायतों की संख्या बढ़ने के साथ ही साक्ष्य जमा किए गए, जिसमें 10 'शास्त्री' कदाचार में लिप्त पाए गए, जिसके बाद उन्हें अनुष्ठान करने से रोकने की कार्रवाई शुरू की गई। इसी कड़ी में आज कुल दस पुजारियों के मंदिर में पूजा करने पर रोक लगा दी गई है।


मंदिर के अधिकारियों के अनुसार, 'निशुल्क शास्त्री' की श्रेणी के पुजारी मंदिर के हेल्प-डेस्क द्वारा लगे हुए हैं ताकि भक्तों को टिकट खरीदकर मंदिर में प्रवेश करने में सुविधा हो। एक सुगम दर्शन टिकट के लिए 300 रुपये के भुगतान पर संबंधित भक्तों की सुविधा के लिए नियुक्त प्रत्येक पुजारी को 30 रुपये का भुगतान किया जाता है। इस श्रेणी में बड़ी संख्या में पुजारी श्रावण के महीने में प्रत्येक टिकट पर भुगतान की गई वास्तविक राशि प्राप्त करके 1 लाख रुपये से अधिक कमाते हैं, जब मंदिर में आने वाले भक्तों की संख्या बढ़ जाती है।

अधिकारियों ने बताया कि मंदिर में चल रहे कुछ निर्माण कार्य के चलते सीसीटीवी नेटवर्क बंद होने का फायदा उठाकर पुजारी कदाचार में लिप्त होने लगे थे। दीपक अग्रवाल ने कहा कि वरिष्ठ पुजारियों और मंदिर के कर्मचारियों की एक बैठक बुलाई गई, जिसमें यह स्पष्ट किया गया कि पवित्र मंदिर की छवि को खराब करने वालों को मंदिर में काम करने में योगदान नहीं देने दिया जाएगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia