योगी सरकार में ऐसा था सेंगर का रसूख, जेल में 10,000 लोगों ने की मुलाकात, बीजेपी के कई विधायक-सांसद भी शामिल

बताया जा रहा है कि सीबीआई जांच में सामने आया है कि सीतापुर जेल में बंद रहने के दौरान कुलदीप सेंगर से करीब 10,000 लोगों ने मुलाकात की, जिसमें बीजेपी के कई विधायक और सांसदों के नाम भी शामिल हैं। जेल में सेंगर से मिलने रोजाना करीब 20-25 लोग आते थे।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उन्नाव रेप कांड के मुख्य आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर अब सुप्रीम कोर्ट की दखल के बाद सीबीआई का शिकंजा कसता जा रहा है। कोर्ट के आदेश पर मामले को उत्तर प्रदेश से दिल्ली ट्रांसफर करने के बाद सेंगर को तिहाड़ जेल में भले शिफ्ट कर दिया गया है, लेकिन उसके जलवे और रुतबे की कहानी अभी भी सीतापुर जेल के रजिस्टर चीख-चीख कर बयान कर रहे हैं।

रेप पीड़िता के साथ भीषण सड़क हादसे की जांच कर रही सीबीआई इस मामले में विधायक की भूमिका तलाश करने में जुटी है। इसी तफ्तीश के सिलसिले में सीबीआई इस बात की जानकारी जुटा रही है कि सीतापुर जेल में रहने के दौरान विधायक सेंगर से कितने लोगों ने मुलाकात की थी और वे कौन लोग थे। बताया जा रहा है कि इस जांच में पता चला है कि सीतापुर जेल में बंद रहने के दौरान कुलदीप सेंगर से करीब 10,000 लोगों ने मुलाकात की। कहा जा रहा है कि जेल में सेंगर से मिलने रोज करीब 20-25 लोग आते थे।

इसमें खास बात ये है कि जेल में बंद रहने के दौरान सेंगर से मिलने वालों में सिर्फ उसके परिवार के लोग या रिश्तेदार ही नहीं, बल्कि राज्य की सत्ताधारी बीजेपी के कई विधायक और सांसद साक्षी महाराज भी शामिल थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जांच में पता चला है कि साक्षी महाराज के अलावा बीजेपी के कई और सांसदों और विधायकों के नाम सेंगर से मिलने वालों की लिस्ट में शामिल है। जानकारी के मुताबिक सेंगर से मिलने सिर्फ सत्ताधारी बीजेपी के ही नहीं, बल्कि कुछ विपक्षी दलों के भी लोग आते थे।

इतना ही नहीं, जांच में ये भी सामने आया है कि कुछ लोगों को तो बिना उनके नाम रिकॉर्ड बुक या रजिस्टर में दर्ज किए जेल में सीधे सेंगर से मिलने भेज दिया जाता था। सीतापुर जेल के एक अधिकारी ने आईएएनएस से बातचीत में स्वीकार करते हुए कहा कि सेंगर से मिलने सांसद, विधायक, अधिकारी, पूर्व विधायक और यहां तक कि विपक्षी दलों के विधायक भी नियमित रूप से आते थे। उन्होंने कहा कि हम उस स्थिति में नहीं थे कि उनमें से किसी को सेंगर से मिलने से रोक पाते।

गौरतलब है कि उन्नाव की एक नाबालिग लड़की के साथ रेप के आरोप लगने पर काफी हंगामे के बाद गिरफ्तार तत्कालीन बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को साल 2018 में सीतापुर जेल लाया गया था। हाल ही में पीड़िता की कार के साथ हुए सड़क हादसे में विधायक का नाम आने के बाद परिजनों की मांग पर मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई है। जिसकी छानबीन में जुटते ही सीबीआई ने सीतापुर जेल अधिकारियों से विधायक से मुलाकात करने वालों की लिस्ट मांगी है।

इधर सड़क हादसे में गंभीर रूप से जख्मी पीड़िता को सोमवार को एयरलिफ्ट कर लखनऊ के केजीएमयू अस्पताल से दिल्ली लाया गया है, जहां एम्स ट्रामा सेंटर में उसका इलाज चल रहा है। पीड़िता की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है।

लोकप्रिय
next