2017 के मुकाबले 2018 में अधिक हुए अपराध, 10349 किसानों ने की खुदकुशी: NCRB 

लाख कोशिशों के बावजूद भी किसान और खेती से जुड़े लोगों की आत्म हत्या रुकने का नाम नहीं ले रहा है। एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2018 में कृषि क्षेत्र से जुड़े कुल 10,349 लोगों ने आत्महत्या की। वहीं अपराध की बात करें तो 2017 की तुलना में अपराधों की संख्या बढ़ी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्‍यूरो ने अपराधों और किसानों की आत्महत्यों को लेकर आंकड़ा जारी किया। एनसीआरबी आंकड़ों के मुताबिक, साल 2018 में 50,74,634 अपराध हुए। हालांकि 2017 की तुलना में इसमें 1.3 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई। साल 2017 में अपराधों का आंकड़ा 50,07,044 था, जबकि साल 2018 में आंकड़ों की संख्या 50,74,634 तक पहुंच गई।

इसके पहले एनसीआरबी ने हाल ही में 2017 का अपराध डाटा जारी किया था। इसके अनुसार 1992 के बाद से हत्या दर में धीरे-धीरे गिरावट आई। 1963 के बाद 2017 में कम दर रिकॉर्ड किया गया। इसके मुताबिक, प्रति एक लाख आबादी पर 2.49 हत्या का मामला दर्ज हुआ। 2015 की तुलना में 2017 में चोरी के मामलों में भी कमी आई। 2017 में दर्ज हुए दुष्कर्म व यौन उत्पीड़न के मामलों में भी 2015 के मुकाबले कमी आई।

2018 में कत्ल के 29017 मामले दर्ज किए गए जबकि 2017 में कत्ल की संख्या 28653 थी। यानि इसमें 1.3 फीसद की बढ़त देखी गई। इन आंकडों के मुताबिक व्यक्तिगत दुश्मनी हत्याओं का सबसे बड़ा कारण बनी। इसके अलावा 2018 में किडनैपिंग के 105734 केस दर्ज किए गए जो 2017 में दर्ज हुए 95893 केस से 10.3 फीसदी ज्यादा हैं।

अब बात करें किसानों की तो एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2018 में कृषि क्षेत्र (कृषक और कृषि श्रमिक) से जुड़े कुल 10,349 लोगों ने आत्महत्या की जो कि साल 2017 की तुलना में थोड़ा कम है। एनसीआरबी के अनुसार वर्ष 2017 में देशभर में 10,655 किसान और कृषि श्रमिकों ने आत्महत्या की थी।

एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2018 में कृषि क्षेत्र में शामिल कुल 10,349 लोग, जिनमें से 5,763 किसान शामिल हैं, ने आत्महत्या की जबकि इस दौरान 4,586 किसान मजूदरों ने आत्महत्या की। एनसीआरबी की रिपोर्ट 'भारत में अपराध -2017' जारी करने के लगभग तीन महीने बाद वार्षिक डेटा जारी किया गया है।

एनसीआरबी के आंकड़ों में कहा गया है कि 2018 में कृषि क्षेत्र में आत्महत्या करने वालों की संख्या कुल आत्महत्या करने के मामले में 7.7 फीसदी रही। इस दौरान देशभर में कुल 1,34,516 आत्महत्या की गई। वर्ष 2017 में देशभर में कुल 1,29,887 लोगों ने आत्महत्याएं की थी।

एनसीआरबी के अनुसार साल 2018 में कुछ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कृषि क्षेत्र में शून्य आत्महत्या हुई है। इनमें पश्चिम बंगाल, बिहार, ओडिशा, उत्तराखंड, मेघालय, गोवा, चंडीगढ़, दमन और दीव, दिल्ली, लक्षद्वीप और पुदुचेरी है।

लोकप्रिय