पेगासस मामले में अपनी सरकारों के खिलाफ पेरिस की अदालत पहुंचे 17 पत्रकार,भारत के भी 5 पत्रकार शामिल

पेगासस जासूसी मामले में दुनिया भर के 17 पत्रकारों ने पेरिस में अदालत का दरवाजा खटखटाया है। पत्रकारों ने इजारय की एनएसओ कंपनी के खिलाफ जांच करने की मांग की है। अदालत जाने वाले पत्रकारों में 5 भारतीय पत्रकार भी हैं।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पेगासस जासूसी कांड में 7 देशों के 17 पत्रकारों ने पैरिस की अदालत में इजारयली कंपनी एनएसओ ग्रुप के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। इनमें भारत के भी 5 पत्रकार शामिल हैं। शिकायत करने वाले पत्रकारों ने कहा है कि उनकी सरकारों ने उनके या तो फोन हैक किए या फिर हैक करने की कोशिश की। शिकायत में पेगासस सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी एनएसओ और उन सभी लोगों को आरोपी बनाने की बात की गई है जो जांच के दौरान इस मामले में शामिल पाए जाएंगे।

यह जानकारी रिपोरटर्स विदाउट बॉर्डर ने साझा की है। रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर की शिकायत के साथ दो अन्य पत्रकार भी जुड़े हैं। इनमें से एक फ्रेंच-मोरक्कन नागरिकता वाला पत्रकार भी शामिल है।

जिन 17 पत्रकारों ने मामला दर्ज कराया है उनमें दो अजरबैजान से, पांच मेक्सिको से, 5 भारत से, एक स्पेन से, दो हंगरी से और मोरक्को से और एक टोगो से है। सारे पत्रकार उन करीब 200 पत्रकारों में से हैं जिनके फोन पर जासूसी का गई या करने की कोशिश की गई।

इन सभी पत्रकारों ने कहा है कि उन्हें या तो आशंका है या फिर जानकारी है कि उनकी सरकारों ने उनके फोन की जासूसी सिर्फ इसलिए कराई क्योंकि वे जनहित में पत्रकारिता कर रहे थे। शिकायत दर्ज कराने वाले भारत के पांच पत्रकारों में सुशांत सिंह, सिद्धार्थ वर्दराजन, एम के वेणु, स्वाति चतुर्वेदी और शुभ्रांशु चौधरी भी शामिल हैं।

आरएसएफ के प्रवक्ता पॉलीन एडेस-मेवेल ने कहा, "इन पत्रकारों द्वारा दायर की गई शिकायतें, जो हर महाद्वीप से हैं, एनएसओ ग्रुप के पेगासस स्पाइवेयर के साथ की गई निगरानी के पैमाने की पुष्टि करती हैं।" उन्होंने कहा कि, “जांच में शामिल सभी लोगों की पहचान होनी चाहिए, चाहे वह कंपनी के अधिकारी हों या संबंधित देशों के वरिष्ठ सरकारी अधिकारी हों। प्रेस की स्वतंत्रता के लिए इस घोटाले की पर्तें खुलकर सामने आना चाहिए और जो भी लोग इसमें शामिल हैं उन्हें बेपरदा करना चाहिए।"


आरएसएफ ने औपचारिक रूप से इन 17 पत्रकारों के मामलों को संयुक्त राष्ट्र के चार विशेष प्रतिवेदकों - राय और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, निजता के अधिकार, मानवाधिकार रक्षकों और आतंकवाद का मुकाबला करते हुए मानवाधिकारों की रक्षा करने वालों को संदर्भित किया है - उनसे स्पष्टीकरण मांगने के लिए कहा। सरकारों को इन पत्रकारों की जासूसी करने के लिए पेगासस का उपयोग करने का संदेह था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia