असम के एक बूथ पर कुल 90 मतदाता, वोट पड़े 171, तीसरे चरण से पहले सामने आया बड़ा झोल

असम चुनाव के दूसरे चरण के मतदान दौरान दीमा हसाओ जिले में एक मतदान केंद्र में गड़बड़ी की बात सामने आई है। इस पोलिंग बूथ पर सिर्फ 90 मतदाता हैं, लेकिन यहां 171 वोट डाले गए हैं। मामला सामने आने पर चुनाव आयोग ने कई अधिकारियों पर कार्रवाई की है।

फाइल फोटोः पीटीआई
फाइल फोटोः पीटीआई
user

नवजीवन डेस्क

असम विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के बाद बीजेपी उम्मीदवार की गाड़ी में ईवीएम मिलने का मामला अभी ठंडा ही हुआ था कि अब उसी चरण में कुल 90 मतदाताओं वाले एक बूथ पर 171 वोट पड़ने का मामला सामने आया है। इसका खुलासा होने पर चुनाव अधिकारियों में हड़कंप मचा गया है, जिसके बाद बूथ पर मतदान से जुड़े पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है।

यह मामला असम के दीमा हसाओ जिले के हाफलोंग विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले एक मतदान केंद्र का है। बताया जा रहा है कि इस मतदान केंद्र पर कुल 90 मतदाता ही पंजीकृत हैं, लेकिन दूसरे चरण में यहां हुए मतदान के दौरान यहां कुल 171 वोट पड़ गए, जो करीब 74 प्रतिशत था। यहां दूसरे चरण के तहत एक अप्रैल को मतदान हुआ था। अब इस पोलिंग बूथ पर दोबारा मतदान कराने की भी बात चल रही है।

मामले के सामने आने के बाद दीमा हसाओ के पुलिस उपायुक्त सह जिला निर्वाचन अधिकारी ने इस मतदान केंद्र के पांच चुनाव अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। गड़बड़ी सामने आने पर दो अप्रैल को ही निलंबन आदेश जारी कर दिया गया था, लेकिन यह मामला आज प्रकाश में आया। जिन अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है, उनमें सेक्टर ऑफिसर एस ल्हांगुम, पीठासीन अधिकारी प्रह्लाद सी रॉय, मतदान अधिकारी परमेश्वर चारंगसा, स्वराज कांति दास और एल थीक के नाम शामिल हैं।

मामले पर एक अधिकारी ने बताया कि वोटिंग के दिन इलाके के ग्राम प्रधान ने मतदाता सूची स्वीकार करने से इनकार कर दिया था और वह अपनी सूची लेकर आ गया था। उसी सूची के हिसाब से गांव के लोगों ने मतदान किया था। अभी इस बात की जांच चल रही है कि बूथ पर मौजूदअधिकारियों ने ग्राम प्रधान की मांग को क्यों स्वीकार किया। यह भी पता किया जा रहा है कि बूथ पर सुरक्षाकर्मी तैनात थे या नहीं और उनकी क्या भूमिका थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय