फडणवीस सरकार में किसान बेहाल, ड्रेनेज चेंबर में उतरे 3 किसानों की दम घुटने से मौत, 3 की हालत गंभीर, एक लापता

महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर के चिकलथाना औद्योगिक क्षेत्र में पानी के लिए बनी ड्रेनज लाइन के मेन होल में सफाई के लिए उतरे 7 में से 3 किसानों की मौत हो गई है, जबकि 3 किसानों की हालत गंभीर बनी हुई है। किसानों की मौत की वजह मेन होल में जहरीली गैस बताई जा रही है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

फडणवीस सरकार में किसान बेहाल हैं। महाराष्‍ट्र के औरंगाबाद में एक ड्रेनेज चेंबर में उतरे 3 किसानों की दम घुटने से मौत हो गई। मौके पर पहुंचे फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने 3 किसानों को सुरक्षित निकालने में कामयाब रहे। वहीं बताया जा रहै है कि एक किसान का अब तक पता नहीं चल पाया है। अगर सरकार ड्रेनेज चेंबर की सफाई करवा देती तो शायद किसानों की जान बच सकती थी। बता दें कि फसलों की सिंचाई के लिए ड्रेनेज चेंबर में इलेक्ट्रिक मोटर लगाया था।

खबरों के मुताबिक, हादसे का शिकार हुए दो किसानों की हालत गंभीर बनी हुई है। बताया जा रहा है कि चिकलथाना परिसर से बहने वाली सुखना नदी के पानी को नदी किनारे बने एक कुएं में पाइप द्वारा ले जाया जाता है। इसी कुएं से पहले एक मेन होल बनाया गया है। इसी मेन होल की सफाई के लिए सोमवार को देर शाम किसान (रामकिशन माने, जनार्दन साबले, दिनेश दराखे, उमेश, प्रकाश बाघमारे, रामेश्वर दांभ और एकनाथ कवडे) मेन होल में उतरे। इसी दौरान जहरीली गैस की चपेट में आकर सभी बेहोश हो गए।

स्थानीय युवक ने किसानों को बेहोशी की हालत में देखे आनान-फानन में इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने एक-एक करके सभी किसानों को बाहर निकाला और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान 3 किसानों की मौत हो गई, जबकि 3 किसानों की हालात गंभीर बनी हुई है।

वहीं मौके पहुंचे फायर ब्रिगेड के अधिकारी मोहन मुंगसे ने बताया कि वे लोग ड्रेनेज की पाइप तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, शायद वहां लापता किसान का पता चल सके।

लोकप्रिय