बिहार में करंट की चपेट में आने से एसएसबी के 3 जवानों की मौत, 9 घायल, चार की हालत गंभीर

एसएसबी की ओर से बताया जा रहा है कि कैंप के ऊपर से हाईटेंशन तार गुजरी है, उसे हटाने को लेकर कई बार बिजली विभाग के अधिकारियों को पत्र लिखा गया, लेकिन बिजली विभाग के अधिकारियों द्वारा बिजली तार नहीं हटाया गया। जिससे यह हादसा हुआ है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के सुपौल में शुक्रवार को बिजली करंट की चपेट में आने से सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की 45वीं बटालियन के 3 जवानों की मौत हो गई, जबकि 9 जवान घायल हो गए। घायलों में चार की हालत गंभीर बताई जा रही है। घटना के बाद एसएसबी 45वीं बटालियन के कमांडेंट आलोक कुमार सहित कई वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं और मामले की जांच कर रहे हैं।

सुपौल के पुलिस अधीक्षक डी अमरकेश ने तीन जवानों की मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि वीरपुर एसएसबी कैंप में बिजली करंट लगने से तीन जवानों की मौत हुई है। एसएसबी के एक अधिकारी ने बताया कि एसएसबी की 45वीं बटालियन के परिसर में कुछ दिन पूर्व लगे एक टेंट को शुक्रवार कुछ जवान हटा रहे थे। बताया जा रहा है कि इसी दौरान एक पाइप, उपर से गुजर रही 11 हजार वोल्टेज की तार के संपर्क में आ गया, जिससे यह बड़ा हादसा हो गया। इस घटना में तीन लोगों की मौत हो गई जबकि नौ लोग घायल हो गए।


अधिकारी ने बताया कि मृतकों की पहचान उत्तर प्रदेश के परशुराम सबर, ओडिशा के महेंद्र चन्द्र कुमार और महाराष्ट्र के नासिक के अनमोल पाटिल के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि इस दुर्घटना में नौ लोग झुलसकर घायल हो गए हैं, जिन्हें इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। घायलों में 4 की हालत गंभीर बनी हुई है, जिन्हें बेहतर इलाज के लिए दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेज दिया गया है। करंट की चपेट में आने वाले कई प्रशिक्षु बताए जा रहे हैं।

घटना को लेकर कोई अधिकारी ज्यादा बोलने को तैयार नहीं हैं। एसएसबी की ओर से बताया जा रहा है कि कैंप के उपर से हाईटेंशन तार गुजरी है, उसे हटाने को लेकर कई बार बिजली विभाग के अधिकारियों को पत्र लिखा गया, लेकिन बिजली विभाग के अधिकारियों द्वारा बिजली तार नहीं हटाया गया। जिससे यह हादसा हुआ है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia