2021 में महिलाओं के खिलाफ अपराध में 30 फीसदी उछाल, 31 हजार से ज्यादा केस आए, आधे से ज्यादा यूपी से- NCW

आयोग के अनुसार 2021 में उत्तर प्रदेश से महिलाओं के खिलाफ अपराध की अधिक शिकायतें मिलीं। सबसे अधिक आबादी वाले राज्य से महिलाओं के खिलाफ अपराध की 15,828 शिकायतें आईं। वहीं दिल्ली से 3,336, महाराष्ट्र से 1,504, हरियाणा से 1,460 और बिहार से 1,456 शिकायत मिलीं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

साल 2021 में कोरोना की क्रूरतम लहर और लंबे प्रतिबंधों के बावजूद महिलाओं के खिलाफ पहले के मुकाबले काफी ज्यादा अपराध हुए। राष्ट्रीय महिला आयोग ने बताया कि 2021 में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की शिकायतों में 30 फीसदी का इजाफा हुआ है। आयोग ने कहा कि पूरे साल में उसे करीब 31 हजार आपराधिक शिकायतें मिलीं। इनमें से ज्यादातर उत्तर प्रदेश से हैं।

भारतीय संसद द्वारा गठित सांविधिक निकाय राष्ट्रीय महिला आयोग ने बताया कि उसे 2021 में महिलाओं के खिलाफ हुए अपराधों की लगभग 31,000 शिकायतें मिलीं, जोकि साल 2014 के बाद से सबसे अधिक हैं। इसके अलावा इन शिकायतों में आधे से अधिक उत्तर प्रदेश से हैं। राष्ट्रीय महिला आयोग के अनुसार 2020 की तुलना में साल 2021 में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की शिकायतों में 30 फीसदी की वृद्धि हुई है।


आयोग के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 30,864 शिकायतों में से घरेलू हिंसा और दहेज उत्पीड़न के 10 हजार से अधिक मामले, फिर 11,013 मामले महिलाओं के भावनात्मक शोषण को ध्यान में रखते हुए सम्मान के साथ जीने के अधिकार से संबंधित थे। इसके साथ ही घरेलू हिंसा से संबंधित 6,633 और दहेज उत्पीड़न से संबंधित भी 4,589 शिकायतें थीं।

राष्ट्रीय महिला आयोग के अनुसार उत्तर प्रदेश से महिलाओं के खिलाफ अपराधों की अधिक शिकायतें प्राप्त हुईं। सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश से महिलाओं के खिलाफ अपराधों की 15,828 शिकायतें दर्ज की गईं। वहीं देश की राजधानी दिल्ली में 3,336, महाराष्ट्र में 1,504, हरियाणा में 1,460 और बिहार में 1,456 शिकायतें बीते एक साल में दर्ज हुईं।

आयोग के अनुसार सम्मान के साथ जीने के अधिकार और घरेलू हिंसा से जुड़ी सबसे ज्यादा शिकायतें उत्तर प्रदेश से प्राप्त हुई हैं। 2021 में एनसीडब्ल्यू को बीते 6 सालों में सबसे ज्यादा शिकायतें प्राप्त हुई हैं। 2014 में कुल 33,906 शिकायतें प्राप्त हुई थीं। हालांकि एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कई मौकों पर ये भी कहा कि शिकायतों में वृद्धि इसलिए हुई है, क्योंकि आयोग लोगों को अपने काम के बारे में अधिक जागरूक कर रहा है।

एनसीडब्ल्यू ने कहा कि साल 2021 में जुलाई से सितंबर तक, हर महीने 3,100 से अधिक शिकायतें प्राप्त हुईं, आखिरी बार 3,000 से अधिक शिकायतें प्राप्त हुई थीं, जब नवंबर, 2018 में देश मे मी टू आंदोलन अपने चरम पर था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia