बीजेपी शासित राज्यों में जहरीली शराब बनी काल, यूपी और उत्तराखंड में अब तक 38 लोगों की मौत 

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब कहर बरपा रही है। दोनों राज्यों को मिलाकर करीब 38 लोगों की मौत हो गई हैं। वहीं कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है।

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है। सबसे पहले बात करते हैं यूपी की। जहां जहरीली शराब ने कुशीनगर के बाद अब सहारनपुर में कहर बरपाया है। खबरों के मुताबिक, सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से अब तक 16 लोगों ने दम तोड़ दिया है। जबकि कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है।

सहारनपुर में नागल क्षेत्र के गांव उमाही में शराब के सेवन से मरने वालों में 48 वर्षीय इमरान, 32 वर्षीय पिंटू, 32 वर्षीय कमरपाल और 30 वर्षीय अरविंद बताए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि वहां का रहने वाला पिंटू अवैध रूप से शराब की बिक्री करता था। हर रोज की तरह गुरुवार की रात को भी गांव के कई लोग उससे शराब लेकर गए। पीने के बाद रात को करीब दो बजे लोगों की अचानक तबियत खराब हो गई। सुबह-सुबह होते लोगों की लाशें बिछनी शुरू हो गई। जबकि नागल से सटे सरबतपुर गांव में 3 और माली गांव में भी 2 लोगों के मरने की खबर है। इससे पहले कुशीनगर में मंगलवार से कुल 10 लोग जहरीली शराब पीने से काल के गाल में समा चुके हैं।

वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मृतक के परिवार वालों को 2-2 लाख रुपए देने की घोषणा की है। इसके अलावा अस्पताल में उपचार करा रहे प्रभावित मरीजों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है।

जहरीली शराब का कहर उत्तर प्रदेश से सटे उत्तराखंड में भी जारी है। वहां रुड़की के झबरेड़ा क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या 8 से बढ़कर अब 12 हो गई है, जबकि एक दर्जन से ज्यादा लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। खबरों के मुताबिक, झबरेड़ा क्षेत्र में एक साथ 12 लोगों की मौत का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि गुरुवार की शाम को इन्होंने शराब पी थी।

एक साथ हुई 12 लोगों की मौत के बाद हड़कंप मचा हुआ है। आनन-फानन में आबकारी विभाग ने कार्रवाई करते हुए आबकारी निरीक्षक सहित 13 कर्मचारी निलंबित कर दिया है। मामले को गंभीरता से लेते हुए आबकारी मंत्री प्रकाश पंत ने ने ट्वीट कर मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।

Published: 8 Feb 2019, 1:58 PM
लोकप्रिय