दुनिया की 5 बड़ी खबरें: वायरस बनाने का दोष चीन पर और तालिबान ने दो और अफगान जिलों पर किया कब्जा

हाल ही में, अमेरिका के कुछ संसद सदस्यों ने न्यू कोरोना वायरस महामारी की उत्पत्ति की फिर एक बार जांच करने की मांग की। अंतरराष्ट्रीय सैनिकों की वापसी की आधिकारिक शुरूआत के बाद से तालिबान विद्रोहियों ने अफगानिस्तान के दो और जिलों पर कब्जा कर लिया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बांग्लादेश में चीनी सिनोवैक वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी मिली

बांग्लादेश के औषधि प्रशासन ने 6 जून को बांग्लादेश में चीनी सिनोवैक कंपनी की कोरोनावैक नामक वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दी। यह बांग्लादेश में आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी मिली दूसरी चीनी कोरोना वैक्सीन है। बांग्लादेश की सरकार ने अप्रैल के अंत में चीनी सिनोफार्म ग्रुप की कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दी और मई के अंत में पहली बार चीनी सिनोफार्म वैक्सीन का टीकाकरण अभियान चलाने के लिए स्थानीय लोगों को व्यवस्थापित किया।

बांग्लादेश ने जनवरी के अंत में कोरोना वैक्सीन का टीकाकरण अभियान शुरू किया। बांग्लादेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, अब तक देश में कोरोना वैक्सीन की करीब 90 लाख खुराकें लगाई गई हैं। दो चीनी वैक्सीन के अलावा, बांग्लादेश ने देश में आपातकालीन उपयोग के लिए रूस की 'स्पूतनिक वी' सहित तीन टीकों को भी मंजूरी दी है।

वायरस बनाने का दोष चीन पर मढ़ने की साजिश

हाल ही में, अमेरिका के कुछ संसद सदस्यों ने न्यू कोरोना वायरस महामारी की उत्पत्ति की फिर एक बार जांच करने की मांग की। उन्होंने चीन पर महामारी फैलाने का दोष मढ़ देने की कोशिश की। हालांकि, वायरस के जन्म स्रोत का पता लगाने का काम एक वैज्ञानिक मुद्दा है, और न्यू कोरोना वायरस के जन्म स्रोत का पता लगाने की कोशिश वैज्ञानिकों के बीचअंतरराष्ट्रीय सहयोग के माध्यम से की जानी चाहिए, न कि किसी भी देश को हराने के षड़यंत्र में। इस साल 14 जनवरी से 10 फरवरी तक डब्ल्यूएचओ के 17 विशेषज्ञों ने चीनी विशेषज्ञों के साथ एक संयुक्त विशेषज्ञ दल के रूप में चीन के वुहान शहर में करीब एक महीने तक जांच-पड़ताल की। संयुक्त विशेषज्ञ दल ने हुबेई प्रांतीय रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र, वुहान रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र, वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी जैसी विभिन्न जैव सुरक्षा प्रयोगशालाओं का दौरा किया और चीनी प्रयोगशालाओं के विशेषज्ञों के साथ गहन और स्पष्ट वैज्ञानिक आदान-प्रदान किया। इसी आधार पर, संयुक्त विशेषज्ञ दल ने सावधानीपूर्वक वैज्ञानिक चर्चा के बाद निष्कर्ष निकाला कि इस बात की बहुत कम संभावना है कि चीनी प्रयोगशाला की घटना से वायरस फैला है। यह निष्कर्ष संयुक्त जांच रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से दर्ज है और वह एक आधिकारिक, औपचारिक और वैज्ञानिक निष्कर्ष है।

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री की अप्रूवल रेटिंग में गिरावट

फोटो: IANS
फोटो: IANS

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के लिए लोकप्रिय समर्थन कोविड-19 वैक्सीन रोलआउट और क्वारंटीन को लेकर राज्यों के साथ विवादों के बीच घिर गए हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, रविवार रात प्रकाशित नवीनतम न्यूजपोल के अनुसार, मॉरिसन की अनुमोदन रेटिंग मई के मध्य में 58 प्रतिशत से गिरकर 54 प्रतिशत हो गई है।

यह उनके प्रदर्शन से असंतुष्ट मतदाताओं के अनुपात में 38 प्रतिशत से 43 प्रतिशत की वृद्धि के साथ मेल खाता है, मई में मॉरिसन की शुद्ध अनुमोदन रेटिंग को प्लस 20 से घटाकर 11 कर दिया गया है, यह अप्रैल 2020 के बाद से सबसे कम है, जो कोविड-19 प्रतिबंधों के बाद है जो पहले पेश किए गए थे।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने काबुल में की अमेरिकी शांति प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ गनी ने यहां अफगानिस्तान सुलह के लिए वाशिंगटन के विशेष प्रतिनिधि जलमय खलीलजाद के नेतृत्व में एक अमेरिकी अंतर-मंत्रालयी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, गनी के कार्यालय ने बताया कि रविवार को हुई बैठक के दौरान दोनों पक्षों ने सहयोग बढ़ाने और द्विपक्षीय राजनीतिक, सुरक्षा, रक्षा और आर्थिक संबंधों को बनाए रखने सहित कई मुद्दों पर चर्चा की।

अफगान राष्ट्रीय रक्षा और सुरक्षा बलों (एएनडीएसएफ) के लिए वार्षिक सहायता में 330 करोड़ डॉलर की निरंतरता के संबंध में अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल ने एएनडीएसएफ को समर्थन देने के साथ-साथ आर्थिक क्षेत्रों में अफगानिस्तान का समर्थन करने के व्हाइट हाउस के संदेश से अवगत कराया।

दो और अफगान जिलों पर तालिबान ने कब्जा कर अपनी जमीन मजबूत की

अंतरराष्ट्रीय सैनिकों की वापसी की आधिकारिक शुरूआत के बाद से तालिबान विद्रोहियों ने अफगानिस्तान के दो और जिलों पर कब्जा कर लिया है। डीपीए समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तरी फरयाब प्रांत में, सरकारी बलों ने कैसर जिला केंद्र को छोड़ दिया, जिसमें वरिष्ठ स्थानीय अधिकारी रहते हैं।

स्थानीय पुलिस मुख्यालय पर शनिवार को एक कार बम हमले सहित कई दिनों की भारी लड़ाई के बाद बल पास के एक गाँव में एक पहाड़ी की चोटी पर भाग गए, जिसमें कई पुलिस अधिकारी मारे गए। प्रांत के एक जानकार सूत्र ने डीपीए को बताया कि हाल के दिनों में लगभग सौ लोगों के मारे जाने, घायल होने या बंदी बनाए जाने की आशंका है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia