शीतकालीन सत्र में रोज ट्रैक्टर से संसद मार्च करेंगे 500 किसान, एक साल पूरे होने पर आंदोलन को तेज करने का भी ऐलान

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि यह इसलिए किया जाएगा ताकि इस अड़ियल, असंवेदनशील, लोक-विरोधी और कॉरपोरेट-समर्थक केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ाया जा सके। यही कारण है कि किसानों ने बैठक बुलाई और कई अन्य फैसले भी लिए और आंदोलन को तेज करने के लिए चर्चा भी की।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र के विवादित कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन जारी है और उसे अब एक साल पूरे होने वाले हैं। इसी को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा ने मंगलवार को एक बैठक बुलाई, जिसमें यह फैसला लिया गया कि 29 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान किसान संसद मार्च करेंगे। इसके अलावा बैठक में कई अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की गई।

संयुक्त किसान मोर्चा ने मंगलवार को बयान जारी कर कहा कि, 29 नवंबर से दिल्ली में संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होगा। संसद के इस सत्र के अंत तक 500 चयनित किसान, राष्ट्रीय राजधानी में विरोध करने के अपने अधिकारों स्थापित करने के लिए हर दिन ट्रैक्टर ट्रॉलियों में सवार होकर शांतिपूर्ण और पूरे अनुशासन के साथ संसद मार्च करेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि यह इसलिए किया जाएगा ताकि इस अड़ियल, असंवेदनशील, लोक-विरोधी और कॉरपोरेट-समर्थक केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ाया जा सके। दरअसल किसान लगातार अपने आंदोलन को गति देने में लगे हुए हैं। यही कारण है कि किसानों ने बैठक बुलाई और कई अन्य फैसले भी लिए और आंदोलन को तेज करने के लिए चर्चा भी की।


इसके अलावा संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि बैठक में 26 नवंबर को और उसके बाद दिल्ली मोर्चे पर और पूरे देश में ऐतिहासिक किसान संघर्ष के एक साल पूरे होने को व्यापक रूप से मनाने का फैसला किया गया है। वहीं 26 नवंबर संविधान दिवस भी है, जब भारत का संविधान 1949 में संविधान सभा द्वारा अपनाया गया था।

26 नवंबर को पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और राजस्थान से दिल्ली के सभी मोर्चों पर भारी भीड़ जुटेगी। एसकेएम के सभी किसान संगठन इस अवसर पर किसानों को पूरी ताकत से लामबंद करेंगे। उस दिन विशाल जनसभाएं की जाएंगी। किसानों के अनुसार, इस संघर्ष में अब तक 650 से अधिक शहीदों को श्रद्धांजलि भी दी जाएगी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने दिल्ली की सीमाओं पर इस संघर्ष की पहली वर्षगांठ के तहत 26 नवंबर को राज्यों की राजधानियों में बड़े पैमाने पर महापंचायतों का आह्वान किया है। ये 26 नवंबर को भारत के सभी राज्यों की राजधानियों में किसानों, श्रमिकों, कर्मचारियों, खेतिहर मजदूरों, महिलाओं, युवाओं और छात्रों की व्यापक भागीदारी के साथ आयोजित किए जाएंगे। सिवाय उन राज्यों को छोड़कर जो दिल्ली की सीमाओं पर लामबंद होंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia