हालात

ये हैं वह 7 बातें जो राहुल गांधी ने राफेल पर चर्चा के दौरान लोकसभा में उठाईं

लोकसभा में भारी शोर-शराबे, हंगामे और स्थगन के बीच बुधवार को राफेल सौदे पर चर्चा हुई। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार से सात सवाल पूछे और संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराने की मांग की।

फोटो सौजन्य : लोकसभा टीवी

नवजीवन डेस्क

लोकसभा में आज (बुधवार को) राफेल सौदे को लेकर चर्चा के दौरान तीखी नोंक-झोंक और आरोप-प्रत्यारोप का दौर देखने को मिला। सरकार ने राफैल सौदे से जुड़े हर मामले को सुरक्षा का मुद्दा बताते हुए सौदे की कोई भी जानकारी देने से कतरा रही है, तो कांग्रेस की अगुवाई में संयुक्त विपक्ष राफेल सौदे की संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराने की मांग कर रहा है।

चर्चा में हिस्सा लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर तीखे प्रहार किए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला किया। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार ने एचएएल के हाथ से डील छीनकर युवाओं के हाथ से रोजगार छीन लिया।

उन्होंने कहा कि, “पिछली बार प्रधानमंत्री मेरे भाषण के बाद बोले, मगर राफेल के मुद्दे से बचते दिखे। देश की मोदी सरकार ने देश के युवाओं के साथ विश्वासघात किया है।“

राहुल गांधी के भाषण की मुख्य बातें ये रहीं:

  • प्रधानमंत्री के इंटरव्यू का हवाला देकर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि, “प्रधानमंत्री जी आज पूरा देश आप पर उंगली उठा रहा है।“
  • राहुल गांधी ने सरकार से सीधा सवाल किया कि मोदी सरकार ने 126 विमानों की लिस्ट को घटाकर 36 विमाम क्यों किया। उन्होंने पूछा कि वायुसेना की जरुरत की लिस्ट क्यों बदल गई?
  • कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि, “प्रधानमंत्री डरे हुए हैं। राफेल में सरकार जांच कराए दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।“
  • गोवा के मंत्री का टेप सुनाने की लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इजाजत नहीं दी, जिसपर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अगर बीजेपी इससे डर रही है तो वे इस टेप को नहीं चलाएंगे।
  • राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के एक पत्रिका को दिए बयान का जिक्र करते कहा कि, “रक्षा मंत्री ने कहा है कि प्रधानमंत्री को राफेल के में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। इस टेप में पर्रिकर ने कहा कि मेरे पास राफेल की फाइलें पड़ी हुई हैं और पूरा सच मेरे पास पड़ा हुआ है।“
  • राहुल गांधी ने कहा कि, “राफेल मामले में पूरी दाल ही काली है। प्रधानमंत्री पिछली बार मेरे भाषण के बाद घंटाभर बोले मगर राफेल पर चुप्पी साध ली। राफेल पर प्रधानमंत्री मोदी अपने कमरे में जबकि रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण एआईडीएमके के सांसदों के पीछे छुप जाती हैं।“
  • कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि, “सुप्रीम कोर्ट ने यह नहीं कहा कि इस मामले में जांच नहीं हो।
Published: 2 Jan 2019, 4:39 PM
लोकप्रिय