सिक्किम में हिमस्खलन में दबकर 7 पर्यटकों की मौत, अभी भी कई के दबे होने की आशंका, कल फिर चलेगा खोज अभियान

सिक्किम में आए बर्फीले तूफान पर सीएम प्रेम सिंह तमांग ने कहा कि 7 लोगों की मौत हुई है। हम पता लगा रहे हैं कि वे कहां से हैं। राज्य और एनडीआरएफ के अधिकारियों द्वारा बचाव कार्य किया गया। अगर और भी पर्यटक फंसे हुए हैं तो हम कल फिर से बचाव अभियान चलाएंगे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

सिक्किम में मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग 310 के एक हिस्से के भारी हिमस्खलन की चपेट में आने से वहां से गुजर रही पर्यटकों की एक बस उसकी चपेट में आ गई है। इस हादसे में कम से कम सात पर्यटकों की मौत हो गई। जबकि अभी भी कई लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है। इस बीच आज रात होने की वजह से बचाव अभियान रोक दिया गया है। कल सुबह फिर लोगों की खोज शुरू की जाएगी।

सिक्किम में आज आए बर्फीले तूफान पर सीएम प्रेम सिंह तमांग ने कहा कि मैं इस घटना से दुखी हूं। राज्य और एनडीआरएफ के अधिकारियों द्वारा बचाव कार्य किया गया। सात लोगों की मौत हो गई और हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि वे कहां से हैं। अगर और भी फंसे हुए पर्यटक हैं तो हम कल फिर से बचाव अभियान चलाएंगे।


वहीं रक्षा सूत्रों ने बताया कि सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) हिमस्खलन के कारण प्रभावित क्षेत्र में फंसे कम से कम 350 पर्यटकों को बचाने में सफल रहा है। रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र रावत ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग 310 पर गंगटोक-नाथू ला जवाहर लाल नेहरू मार्ग पर हिमस्खलन हुआ। उन्होंने कहा कि 5-6 वाहनों में सवार करीब 30 पर्यटक नाथू ला जा रहे थे, जो बर्फ में दब गए।

लेफ्टिनेंट कर्नल ने बताया कि भारतीय सेना की त्रिशक्ति कोर के जवान और 'प्रोजेक्ट स्वास्तिक' के तहत बीआरओ के जवान तुरंत कार्रवाई में जुट गए और एक चौतरफा बचाव अभियान शुरू किया। अभियान के दौरान घाटी से कुल 23 लोगों को जिंदा बाहर निकाला गया। जिसके बाद उन्हें भारतीय सेना के नजदीकी चिकित्सा सुविधाओं में भर्ती कराया गया।


लेफ्टिनेंट कर्नल रावत ने कहा कि दुर्भाग्य से सात पर्यटकों की मौत हो गई है। सेना, राज्य आपदा प्रबंधन टीम और पुलिस द्वारा खोज और बचाव अभियान जारी है। अब तक 80 वाहनों में यात्रा कर रहे 350 फंसे पर्यटकों को सड़क से बर्फ हटाकर सुरक्षित निकाला जा चुका है। फिलहाल रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;