सपना चौधरी के खिलाफ लखनऊ की एक अदालत ने जारी किया गिरफ्तारी वारंट, जानें क्या है मामला

सपना चौधरी के खिलाफ 14 अक्टूबर, 2018 को आशियाना पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। 13 अक्टूबर को लखनऊ के स्मृति उपवन में डांस शो के लिए कथित रूप से कैंसिल होने के बाद से ही सपना के लिए मुसीबतें बढ़ी हुई हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लखनऊ की एक अदालत ने एक कार्यक्रम को कथित रूप से रद्द करने और टिकट धारकों को पैसे नहीं लौटाने के आरोप में मशहूर डांसर सपना चौधरी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट शांतनु त्यागी ने बुधवार को चौधरी के खिलाफ वारंट जारी करते हुए पुलिस को 22 नवंबर तक इस पर अमल करने को कहा, जो मामले की सुनवाई की अगली तारीख है।

अदालत उस मामले में सपना के खिलाफ आरोप तय करेगी जिसके लिए आरोपी की उपस्थिति आवश्यक है। सपना चौधरी ने पहले भी अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया था लेकिन उन्हें राहत देने से इनकार कर दिया गया था।

चौधरी के खिलाफ 14 अक्टूबर, 2018 को आशियाना पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। 13 अक्टूबर को लखनऊ के स्मृति उपवन में डांस शो के लिए कथित रूप से कैंसिल होने के बाद से ही सपना के लिए मुसीबतें बढ़ी हुई हैं। इस एफआईआर में डांसर के अलावा कार्यक्रम के आयोजकों जुनैद अहमद, नवीन शर्मा, इबाद अली, अमित पांडे और रत्नाकर उपाध्याय का भी नाम है।

कार्यक्रम का टिकट ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से 300 रुपये की कीमत पर बेचा गया था। कार्यक्रम देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे लेकिन जब चौधरी रात 10 बजे तक नहीं पहुंची तो भीड़ ने मौके पर हंगामा कर दिया। लोगों का पैसा भी उन्हें वापस नहीं किया गया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 18 Nov 2021, 9:31 AM