पीएम के 15 लाख के वादे की पहली किस्त मिली- दावा कर शख्स ने गलती से खाते में आए 5.5 लाख रुपये लौटाने से किया मना

पैसा पाने वाले रंजीत दास ने कहा कि जब मुझे इस साल मार्च में पैसा मिला तो मैं बहुत खुश था। मैंने सोचा कि प्रधानमंत्री मोदी ने हर बैंक खाते में 15 लाख रुपये भेजने का वादा किया था, जिसकी यह पहली किस्त हो सकती है। मैंने सारा पैसा खर्च कर दिया।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के खगड़िया जिले में बड़ा मजेदार मामला सामने आया है। दरअसल यहां के एक व्यक्ति के खाते में बैंक की गलती के कारण 5.5 लाख रुपये आ गए। अब उसने यह दावा करते हुए रकम वापस करने से इनकार कर दिया है कि यह पैसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 15 लाख के वादे की पहली किस्त के तौर पर भेजा गया है।

जानकारी के अनुसार खगड़िया में ग्रामीण बैंक ने गलती से मानसी थाना क्षेत्र के बख्तियारपुर गांव के मूल निवासी रंजीत दास के खाते में गलती से 5.5 लाख रुपये भेज दिए। गलती सामने आने के बाद बैंक ने उक्त रकम लौटाने के दास को कई नोटिस भी दिया। लेकिन दास ने यह कहते हुए रकम वापस करने से इनकार कर दिया कि उन्होंने उसे खर्च कर दिया है।


रंजीत दास ने कहा, "जब मुझे इस साल मार्च में पैसा मिला तो मैं बहुत खुश था। मैंने सोचा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर बैंक खाते में 15 लाख रुपये जमा करने का वादा किया था, जिसकी यह पहली किस्त हो सकती है। मैंने सारा पैसा खर्च कर दिया। अब मेरे बैंक खाते में पैसे नहीं हैं।"

अब यह दिलचस्प मामला पुलिस के पास पहुंच गया है। इस मामले पर मानसी के थाना प्रभारी दीपक कुमार ने कहा कि बैंक के मैनेजर की शिकायत पर हमने रंजीत दास को गिरफ्तार कर लिया है, आगे की जांच जारी है। इस मामले के सामने आने के बाद पूरे इलाके में यह घटना चर्चा का विषय बन गई है और एक बार फिर सबकों पीएम मोदी के 15 लाख रुपये के वादे की याद आ गई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia