गलवान घाटी के शहीदों पर बयान देकर फंसी अभिनेत्री ऋचा चड्ढा, माफी मांगने के बावजूद मुंबई में शिकायत दर्ज

ऋचा चड्ढा ने हंगामा बढ़ता देख अपने विवादित ट्वीट को डिलीट कर दिया और माफी भी मांगी। उन्होंने लिखा, मेरा मकसद सेना का अपमान करने का नहीं था। मेरे तीन शब्दों को विवाद में घसीटा गया। अगर किसी को भी बुरा लगा हो तो माफी चाहती हूं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से लोहा लेते हुए शहीद होने वालें भारतीय सैनिकों पर विवादित बयान देना अभिनेत्री ऋचा चड्ढा को महंगा पड़ गया है। माफी मांगने के बावजूद ऋचा चड्ढा के खिलाफ मुंबई के जुहू पुलिस स्टेशन में एक शिकायत दर्ज कराई गई है। यह शिकायत फिल्म निर्माता एशोक पंडित द्वारा दर्ज कराई गई है।

अपनी शिकायत में फिल्म निर्माता एशोक पंडित ने कहा है कि ऋचा चड्ढा ने हमारे सुरक्षा बलों का मजाक उड़ाया है और उनका अपमान किया है, विशेष रूप से जिन्होंने गलवान घाटी में अपनी जान दे दी। यह एक आपराधिक कृत्य है, प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए।

गलवान घाटी के शहीदों पर ऋचा चड्ढा ने क्या कहा?

ऋचा चड्ढा ने उत्तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेट जनरल उपेंद्र द्विवेदी के बयान पर प्रतिक्रिया दी थी, जिसमें लेफ्टिनेट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने कहा था कि भारतीय सेना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को वापस लेने के आदेश को पूरा करने के लिए तैयार है। 

ऋचा ने लेफ्टिनेट जनरल उपेंद्र द्विवेदी के बयान के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा, "Galwan says hi।" जैसे ही उन्होंने ये ट्वीट किया सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जाने लगा। सोशल मीडिया यूजर्स ने भारत-चीन के बीच साल 2020 में हुई झड़प को लेकर शहीदों का अपमान करने के लिए उनकी जमकर आलोचना दी। लोगों ने लिखा कि हमारे गलवान में शहीद हुए हमारे जवानों का मजाक बनाया जा रहा है।


ऋचा चड्ढा ने अपने ट्वीट पर मांगी माफी

ऋचा चड्ढा ने हंगामा बढ़ता देख अपने विवादित ट्वीट को डिलीट कर दिया और माफी भी मांगी। उन्होंने लिखा, “मेरा मकसद सेना का अपमान करने का नहीं था। मेरे तीन शब्दों को विवाद में घसीटा गया। अगर किसी को भी बुरा लगा हो तो माफी चाहती हूं। मेरे नानाजी खुद फौज में थे और लेफ्टिनेंट कर्नल की पोस्ट पर थे। भारत-चीन युद्ध में उनके पैर में गोली लगी थी। मेरे मामाजी भी पैराट्रूपर थे। यह मेरे खून में है। अगर सेना में कोई शहीद होता है तो उससे पूरा परिवार प्रभावित होता है। यहां तक कि अगर कोई सेना में घायल होता है तो भी दर्दनाक होता है। यह मेरे लिए एक भावनात्मक मुद्दा है।”

गलवान घाटी में क्या हुआ था? 

15 जून 2021 की रात को गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस दौरान भारतीय सेना के कर्नल संतोष बाबू समेत 20 जवान शहीद हो गए थे। उस समय आई खबरों में यह दावा किया गया था कि हिंसक झड़प में चीन के करीब 40 जवान मारे गए थे। हालांकि चीन ने अपने जवानों के मारे जाने का कोई आधिकारिक आंकड़ा जारी नहीं किया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */