अफगान सेना ने 24 घंटे में 100 आतंकवादियों को मार गिराया, सुरक्षा बलों और तालिबान के बीच तेज हुआ संघर्ष

अमेरिका के अफगानिस्तान से अपनी और नाटो की फौज हटाने के ऐलान के बाद से तालिबान ने एक बार फिर अफगानिस्तान में अपनी पकड़ बनाने की कोशिश शुरू कर दी है। जिसके बाद से देश के कई प्रांतों में हाल के महीनों में भारी लड़ाई देखने को मिल रही है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों द्वारा देश भर में केवल 24 घंटों में किए गए कई हमलों में कम से कम 100 तालिबानी आतंकवादी मारे गए हैं, जबकि लगभग 90 अन्य घायल हो गए हैं। शुक्रवार को अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है। इन हमलों में अफगान वायु सेना के युद्धक विमानों ने भी जमीनी बलों का जमकर साथ दिया है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने स्थानीय सरकार के सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा है कि हेरात प्रांत में, स्थानीय सार्वजनिक विद्रोह बलों द्वारा समर्थित सुरक्षा कर्मियों ने प्रांतीय राजधानी हेरात शहर और पड़ोसी जिलों गुजरा, कारुख और सेयावोशन पर आतंकवादी समूह के हमलों का जवाब दिया, जिसमें 52 तालिबान आतंकवादी मारे गए और 47 घायल हो गए। सूत्रों ने कहा कि अफगान वायु सेना के ए-29 युद्धक विमानों ने भी जमीनी बलों के समर्थन में कई हमले किए।


अफगान रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि इसके अलावा, हेरात के घोरियन जिले में किए गए हवाई हमलों में 13 तालिबान आतंकवादी मारे गए और 22 अन्य आतंकी मारे गए। बयान में यह भी कहा गया कि सुरक्षाबलों की छापेमार कार्रवाई के दौरान हथियारों और गोला-बारूद के साथ सात वाहन नष्ट हो गए।

सेना की 215वीं माईवंड कोर ने एक बयान में कहा कि हेलमंद में प्रांतीय राजधानी लश्कर गाह के बाहरी इलाके में तालिबान के ठिकानों पर हवाई हमले किए गए। बयान में कहा गया है कि हवाई हमले के दौरान कई तालिबान आतंकवादी मारे गए और घायल हो गए। रक्षा मंत्रालय के अनुसार, कंधार प्रांत में, जहारी जिले में तालिबान के एक समूह को युद्धक विमानों द्वारा निशाना बनाया गया, जिसमें 36 आतंकवादी मारे गए और 20 घायल हो गए।


बता दें कि अफगानिस्तान के कई प्रांतों में हाल के महीनों में भारी लड़ाई देखने को मिल रही है, क्योंकि तालिबान आतंकवादियों ने सरकार के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखी है। अमेरिका के देश से अपनी और नाटो की फौज हटाने के ऐलान के बाद से तालिबान ने एक बार फिर अफगानिस्तान में अपनी पकड़ बनाने की कोशिश शुरू कर दी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia