उत्तर प्रदेश में ब्लैक और व्हाइट के बाद अब येलो फंगस की दस्तक, गाजियाबाद में मिला पहला केस

यलो फंगस के मरीज का इलाज कर रहे डॉक्टर ने बताया कि यह फंगस रेप्टाइल्स में पाया जाता है। मैंने यह बीमारी पहली बार इंसानों में देखा है। इस बीमारी के इलाज में एम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है। इसे ठीक होने में लंबा वक्त लगता है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना वायरस की स्थिति अभी संभली नहीं है कि ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस ने भी अपनी दस्तक दे दी है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में येलो फंगस के एक मरीज की पुष्टि की गई है। ईएनटी विशेषज्ञ बी.पी. त्यागी ने दावा किया है कि उनके अस्पताल में येलो फंगस का एक मरीज है, जिसका इलाज चल रहा है।

गाजियाबाद के हर्ष हॉस्पिटल में इस वक्त संजय नगर निवासी 45 वर्षीय एक मरीज एडमिट हैं, जो ब्लैक और व्हाइट फंगस के साथ ही साथ येलो फंगस से भी ग्रस्त हैं। प्रोफेसर त्यागी ने कहा, "मेरे पास एक मरीज आया, जो शुरूआती जांच के बाद भले ही नॉर्मल लगा, लेकिन दूसरी बार टेस्ट किए जाने के बाद पता चला कि मरीज ब्लैक, व्हाइट के साथ-साथ येलो फंगस से भी ग्रस्त है।"

डॉक्टर ने बताया, "यह फंगस रेप्टाइल्स में पाया जाता है। मैंने यह बीमारी पहली बार इंसानों में देखा है। इस बीमारी के इलाज में एम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है। इसे ठीक होने में लंबा वक्त लगता है। मरीज की स्थिति अभी काफी अच्छी तो नहीं बताई जा सकती है, लेकिन उनका इलाज जारी है।"


डॉ बी.पी. त्यागी के मुताबिक, ''जहां तक बात बीमारी के लक्षणों की है, तो भूख कम लगती है, शरीर में सुस्ती बनी रहती है, वजन घटने लगता है। शरीर में लगे घाव भी धीरे-धीरे ठीक होते हैं। इस बीमारी से बचने के लिए साफ-सफाई बहुत जरूरी है, क्योंकि गंदगी से संक्रमण का प्रसार होता है। आप अपने आस-पास जितनी सफाई रखेंगे उतना ही आप इस बीमारी से सुरक्षित रह सकते हैं।

मरीज के बेटे अभिषेक ने कहा, ''मेरे पिता का कोरोना का इलाज चल रहा था और वह अच्छे से ठीक भी हो रहे थे। पिछले दो-तीन दिनों से उनकी आंखों में सूजन आने लगी थी और अचानक से वे पूरी तरह से बंद हो गए थे, नाक से खून बह रहा था और पेशाब का रिसाव होने लगा था। कई टेस्ट के बाद येलो फंगस की पुष्टि हुई।''

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia