वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के डिनर से दूरी बनाने के बाद अब पत्रकारों ने प्रेस कांफ्रेंस का किया बहिष्कार

पत्रकारों शुक्रवार को नेशनल मीडिया सेंटर से बाहर निकल आए, क्योंकि उनसे कहा गया था कि मीडिया को संबोधित करने वाले अधिकारी सिर्फ बयान पढ़ेंगे और किसी प्रश्न का जवाब नहीं देंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

वित्त मंत्रालय द्वारा प्रवेश प्रतिबंधित किए जाने के बाद मंत्रालय और इसे कवर करने वाले पत्रकारों के बीच संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं, लेकिन शुक्रवार को यह और तनावपूर्ण हो गया, जब पत्रकारों ने वरिष्ठ अधिकारियों के संवाददाता सम्मेलन का बहिष्कार कर दिया। इसे सरकार के लिए एक बड़ी शर्मिंदगी मानी जा रही है, क्योंकि मात्र कुछ सप्ताह पहले ही वित्त मंत्रालय कवर करने वाले अधिकांश पत्रकारों ने नार्थ ब्लॉक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारणम द्वारा आयोजित बजट के उपरांत रात्रिभोज से दूरी बना ली थी।

पत्रकारों शुक्रवार को नेशनल मीडिया सेंटर से बाहर निकल आए, क्योंकि उनसे कहा गया था कि मीडिया को संबोधित करने वाले अधिकारी सिर्फ बयान पढ़ेंगे और किसी प्रश्न का जवाब नहीं देंगे।

यह आयोजन उस समय और नाटकीय हो गया, जब वित्तमंत्री के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) कृष्णमूर्ति सुब्रह्मण्यम मीडिया के सवालों के जवाब देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मीडिया के सवालों का जवाब देना है या नहीं वे उच्चाधिकारियों से सलाह लेने के बाद बताएंगे। लेकिव पत्रकार उनका इंतजार करते रहे और लेकिन वे लौटकर नहीं आए। इस बीच, पत्रकार सवाल पूछने की बात पर अड़े रहे और सरकार की तरफ से एकतरफा बयान सुनने से इनकार कर दिया।

इससे पहले ‘पत्रकारिता की स्वतंत्रता’ की रक्षा के लिए अभूतपूर्व एकता का प्रदर्शन करते हुए वित्त मंत्रालय कवर करने वाले 100 से ज्यादा पत्रकारों ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पत्रकारों के लिए आयोजित ‘पोस्ट बजट डिनर’ का बहिष्कार कर दिया था।

पत्रकारों ने सर्वसम्मति से पोस्ट बजट डिनर का बहिष्कार करने का फैसला वित्त मंत्रालय द्वारा मीडियाकर्मियों के नॉर्थ ब्लॉक में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के उस फैसले के विरोध में लिया था, जो मंत्रालय में केवल उन मान्यता प्राप्त पत्रकारों को प्रवेश की अनुमति देता है, जिनके पास किसी आधिकारी से मिलने की पूर्व अनुमति होगी।

इसे भी पढ़ें: निर्मला सीतारमण के डिनर का पत्रकारों ने किया बहिष्कार, मंत्रालय में प्रवेश पर रोक लगाने के विरोध में फैसला

मोदी सरकार का विदेशी मुद्रा में कर्ज लेने का विचार खतरनाक, आर्थिक जोखिमों से घिर जाएगा देश

क्या जम्मू-कश्मीर के तीन हिस्से करने वाली है सरकार, जम्मू पूर्ण राज्य और कश्मीर-लद्दाख को यूटी बनाया जाएगा !

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

Published: 3 Aug 2019, 8:49 AM
लोकप्रिय
next