बिहार में बारिश के बाद नदियां उफान पर, कई गांवों में घुसा पानी, मौसम विभाग ने जारी किया ताजा अलर्ट

आईएमडी के प्रमुख डॉ मृत्यजय महापात्र ने कहा कि बिहार और पूर्वोत्तर के जिन इलाकों में बीते दिनों भारी बारिश के कारण बाढ़ के हालात बने हुए हैं वहां अब भारी बारिश का सिलसिला थमेगा, जबकि ओडिशा से लेकर गुजरात तक अगले पांच दिनों में बारिश की गतिविधियां बढ़ सकती हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

भारी बारिश और बाढ़ से जूझ रहे बिहार समेत पूर्वोत्तर के प्रांतों को जल्द ही मानसून के कहर से राहत मिल सकती है जबकि मौसम की बेरुखी झेल रहे उत्तर और मध्य-भारत में मानसून की सक्रियता से बारिश की गतिविधियां बढ़ सकती हैं।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के प्रमुख डॉ मृत्यजय महापात्र का कहना है कि बिहार और पूर्वोत्तर के जिन इलाकों में बीते दिनों भारी बारिश के कारण बाढ़ के हालात बने हुए हैं वहां अब भारी बारिश का सिलसिला थमेगा, जबकि ओडिशा से लेकर गुजरात तक मध्यभारत में अगले चार-पांच दिनों में बारिश की गतिविधियां बढ़ सकती हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर भारत में भी बारिश में आगे सुधार होने की उम्मीद है, खासतौर से पूर्वी राजस्थान मंे इसी सप्ताह से बारिश हो सकती है।

देश की राजधानी दिल्ली में मानसून की बेरुखी पर पूछे गए सवाल पर डॉ. महापात्र ने आईएएनएस से खास बातचीत में कहा कि दिल्ली, चंडीगढ़ और हरियाणा में मानसून के दौरान अब तक सामान्य बारिश हुई है।

दिल्ली में इस बार वक्त से दो दिन पहले 25 जून को मानसून ने दस्तक दिया, लेकिन उसके बाद से हल्की-फुल्की बारिश जरूर हुई है, लेकिन मूसलधार बारिश अब तक नहीं हुई है।

देशभर में बारिश के वितरण को लेकर पूछे गए सवाल पर आईएमडी महानिदेशक ने कहा कि 13 जुलाई तक देश में मौसम विज्ञान के कुल 36 सब-डिवीजन में से 30 सब-डिवीजन में औसत से अधिक बारिश हुई।

उन्होंने कहा कि सिर्फ छह सब-डिवीजन में डिफिशिएंट रेन हुआ है यानी बारिश का टोटा रहा है। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, जब औसत से 20 फीसदी या उससे भी कम बारिश होती है तो उसे डिफिशिएंट रेन कहा जाता है। ऐसे इलाकों में अब तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख व केरल शामिल हैं।

डॉ. महापात्र ने कहा कि मानसून की प्रगति अब तक औसत से बेहतर रही है और अच्छी बारिश हुई है इस बात की तस्दीक परिचायक खरीफ बुवाई में आई तेजी से होती है।चालू खरीफ सीजन में बीते सप्ताह तक 580.21 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बुवाई हुई है जो कि पिछले साल की समान अविध के 402.57 लाख हेक्टेयर से 44.13 फीसदी अधिक है।

चालू महीने जुलाई और अगस्त महीने के मानूसन के पूवार्नुमान के बारे में पूछे गए सवाल पर देश के शीर्ष मौसम विज्ञानी और आईएमडी प्रमुख ने कहा, "हमने पहले जो पूवार्नुमान जारी किया था कि जुलाई महीने में सामान्य बारिश होगी उसमें अब तक कोई बदलाव नहीं किया है। जुलाई में 102 फीसदी जबकि अगस्त मे 97 फीसदी बारिश का अनुमान है।" उन्होंने कहा कि जुलाई महीने में जिन इलाकों में बारिश कम हुई है वहां आगे सुधार होगा।

आईएमडी की 14 जुलाई की रिपोर्ट के अनुसार, चालू मानसून सीजन के दौरान पूरे भारत में एक जून से लेकर 14 जुलाई तक औसत से 11 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है। चालू मानसून सीजन में 14 जुलाई तक देशभर में 320.1 मिलीमीटर बारिश हुई है, जबकि इस दौरान औसत बारिश 288.9 मिलीमीटर होती है। हालांकिए उत्तर-पश्चिम भारत में एक जून से लेकर 14 जुलाई औसत से 11 फीसदी कम बारिश हुई। वहीं पूरब और पूर्वोत्तर भारत में औसत से 15 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है जबकि मध्य भारत में औसत से 16 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है और दक्षिण प्रायद्वीपीय हिस्से में औसत से 14 फीसदी अधिक बारिश हुई है।

Published: 15 Jul 2020, 11:59 AM
लोकप्रिय
next