यूपी: अग्निपथ योजना के विरोध में हुई हिंसा के बाद कोचिंग सेंटर पर आफत, अलीगढ़ में अब तक 9 कोचिंग संचालक गिरफ्तार

पुलिस अब कोचिंग सेंटर संचालकों की धरपकड़ कर रही है। अलीगढ़ में 9 कोचिंग सेंटर के संचालकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ
user

आस मोहम्मद कैफ

अग्निपथ स्कीम को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन के बीच आज भारत बंद है! इस दौरान पुलिस की कार्रवाई की मुख्य जद में तमाम कोचिंग सेंटर हैं। पुलिस का मानना है कि हिंसा कोचिंग सेंटर के व्हाट्सएप ग्रुप में आए मैसेज के बाद फैली है। पुलिस अब कोचिंग सेंटर संचालकों की धरपकड़ कर रही है। अलीगढ़ में 9 कोचिंग सेंटर के संचालकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है

यहां केंद्र सरकार की सेना भर्ती योजना 'अग्निपथ' को लेकर अलीगढ़ में शुक्रवार को युवाओं द्वारा तगड़ा विरोध प्रदर्शन किया गया था। विरोध प्रदर्शन के दौरान एक पुलिस चौकी और रोड़वेज की बसों में तोड़फोड़ और आगजनी भी हुई थी।‌ अब अलीगढ़ पुलिस ने युवाओं को हिंसक प्रदर्शन के लिए उकसाने के आरोप में नौ कोचिंग सेंटरों के संचालकों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है। अलीगढ़ पुलिस ने अभी तक इस मामले चार एफआईआर दर्ज करते हुए 80 लोगों को गिरफ्तार किया है।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

बीते शुक्रवार को अलीगढ़ में सरकार की अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने पलवल-अलीगढ़ मार्ग पर जाम लगाकर वाहनों, रोड़वेज बसों में तोड़फोड़ और आगजनी की थी। इसके अलावा जट्टारी पुलिस चौकी में तोड़फोड़ करते हुए चौकी में खड़े वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया था।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

अलीगढ़ पुलिस ने इस मामले में चार एफआईआर दर्ज की है। इनमें से दो एफआईआर पुलिसकर्मियों की शिकायत पर, एक एफआईआर उत्तर प्रदेश रोडवेज की शिकायत पर और एक अन्य एफआईआर आम नागरिक की शिकायत पर दर्ज की गई है। जट्टारी पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर में 55 नामजद लोग और 500 अज्ञात लोग शामिल हैं। पुलिस ने अभी तक 80 लोगों को हिंसा करने के आरोप में गिरफ्तार किया है जिसमें से 35 लोगों को पुलिस द्वारा कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया गया है।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

पुलिस द्वारा जेल भेजे गए 35 लोगों में से 9 लोग कोचिंग सेंटरों के संचालक हैं। इनमें तिरुपति कोचिंग सेंटर के संचालक रामकुमार, गुरुकुल कोचिंग सेंटर के संचालक अमित, चौधरी कोचिंग सेंटर के संचालक मोहन चौधरी, यंग इंडिया कोचिंग सेंटर के संचालक सुधीर शर्मा, केडी इंस्टीट्यूट के संचालक गौरव चौधरी, समन्वय कोचिंग सेंटर के संचालक विजय उर्फ मोंटी, जीएस कोचिंग सेंटर के संचालक पुष्पेंद्र सिंह, गुलिया लाइब्रेरी के संचालक केशव चौधरी शामिल हैं। पुलिस ने इन कोचिंग संचालकों पर हिंसा के लिए युवाओं को भड़काने का आरोप लगाया है। पुलिस का आरोप है कि इन लोगों ने सोशल मीडिया पर भड़काऊ और उकसाने वाले मैसेज किये जिसके बाद यह हिंसा भड़की।

अलीगढ़ एसएसपी कलानिधि नैथानी ने मीडिया से कहा है कि,"युवाओं के प्रदर्शन में नौ कोचिंग संचालकों की भूमिका सामने आई है। कोचिंग संचालकों ने असामाजिक तत्वों को सेना में भर्ती के अकांक्षी उम्मीदवारों के प्रदर्शन के बीच ऐसी हिंसक घटनाओं के लिए उकसाया है। पुलिस हिरासत में मौजूद अन्य लोगों से पूछताछ की जा रही है और मामले में सबूतों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।"


अलीगढ़ के छात्र अंकुर चौधरी ने इस गिरफ्तारी को गलत बताते हुए कहा है कि सरकार को युवाओं की बात सुननी चाहिए। यह आक्रोश उनके मनमानी करने से पनप रहा है। आखिर युवा ही तो देश का भविष्य है।

दरअसल जिस अग्निपथ योजना को लेकर देशभर में बवाल मचा है उस अग्निपथ योजना के तहत थल सेना, नौसेना और वायुसेना के लिए युवाओं की भर्ती की जाएगी। अग्निपथ योजना के तहत युवाओं की भर्ती चार साल के लिए होगी। सेना में शामिल होने वाले जवानों को ‘अग्निवीर’ के नाम से जाना जाएगा।‌

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia