योगी सरकार के बाद अब अयोध्या के संत हुए ‘तांडव’ के खिलाफ एकजुट, वेब सीरीज पर की प्रतिबंध लगाने की मांग

महंत परमहंस दास ने कहा कि तांडव में भगवान राम और भगवान शिवका अपमान किया गया है, जो हिंदूधर्म का अपमान है। मैं मुस्लिम मौलवियों से पूछना चाहता हूं कि अगर उनके धर्म कोनिशाना बनाया जाता तो वे क्या करते। हर मौके पर फतवे जारी करने वाले वे अब चुपक्यों हैं?

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के बाद अब अयोध्या के संत वेब सीरीज 'तांडव' के खिलाफ एकजुट होने लगे हैं। यहां के तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने वेब सीरीज ‘तांडव’ पर प्रतिबंध लगाने और अभिनेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

महंत परमहंस दास ने कहा, "वेब सीरीज में भगवान राम और भगवान शिव का अपमान किया गया है। यह हिंदू धर्म का अपमान है। मैं मुस्लिम मौलवियों से पूछना चाहता हूं कि वह कैसी प्रतिक्रिया देते अगर उनके धर्म को निशाना बनाया जाता। वे हर मौके पर फतवे जारी करते हैं, अब वे चुप क्यों हैं?"

महंत परमहंस दास ने आगे कहा कि मुस्लिम अभिनेता पैसे कमाने के लिए हिंदू धर्म का अपमान कर रहे हैं। मुस्लिम धर्मगुरुओं को अली अब्बास जफर जैसे फिल्म निर्माताओं के लिए दिशानिर्देश जारी करने चाहिए।

हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि 'तांडव' 'दुर्भाग्यपूर्ण' है और 'सनातन धर्म' का उपहास करना अनुचित है। उन्होंने कहा, "क्या इस सीरीज के अभिनेता इस तरह से अन्य धर्मों का अपमान करने का जोखिम उठा सकते हैं? वेब सीरीज पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए और जिन्होंने इसे बनाया है उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। यदि कार्रवाई नहीं की जाती है, तो अयोध्या के संत अपने तांडव की शुरुआत करेंगे।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */