आगरा के पारस अस्पताल में 22 मरीजों के दम घुटने का सच, वायरल वीडियो में डॉक्टर ने बयां की खौफनाक दास्तान

ताजनगरी आगरा में 26 अप्रैल को पारस अस्पताल में कई कोरोना मरीजों की दम घुटने से मौत हो गई थी। अब उस मौत की सच्चाई सामने आई है। दरअसल उस दिन सुबह सात बजे पांच मिनट के लिए ऑक्सीजन बंद कर मॉकड्रिल की गई थी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

ताजनगरी आगरा में 26 अप्रैल को पारस अस्पताल में कई कोरोना मरीजों की दम घुटने से मौत हो गई थी। अब उस मौत की सच्चाई सामने आई है। दरअसल उस दिन सुबह सात बजे पांच मिनट के लिए ऑक्सीजन बंद कर मॉकड्रिल की गई थी। उस घटना से संबंधित छह मिनट के चार वीडियो वायरल हुए हैं। जिसमें पारस अस्पताल के मालिक डॉक्टर अरिंजय जैन को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि मॉकड्रिल के नाम पर 5 मिनट के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद कर दी गई थी जिसके बाद 22 मरीजों का दम घुटने लगा था और उनके हाथ-पैर नीले पड़ गए थे। उस वक्त पारस अस्पताल में 96 मरीज भर्ती थे।

वीडियो वायरल होने के बाद आगरा प्रशासन हरकत में आई है। आगरा के डीएम प्रभु एन. सिंह ने जांच कराने की बात कही है। हालांकि डीएम साहब का कहना है कि अस्पताल में सिर्फ चार की मौतें हुईं थीं। फिलाहल वीडियो वायरल होने के बाद पूरे शहर में हड़कंप मच गया है। आगे पढ़िए चारों वायरल वीडियो की खौफनाक दास्तान...

पहले वीडियो में डॉक्टर अरिंजय ये कहते सुनाई पड़ते हैं:- "मेरे पास ट्रेडर का फोन आया। संभवी वाले का... कहां हो बॉस आप कहां हो.. मैंने कहा-राउंड ले रहा हूं। उसने कहा-राउंड लेते रहना, हम मिलने आ रहे हैं। मैंने पूछा क्या हो गया। वह बोले-अरे नहीं, बॉस कत्ल की रात है। मुझे लगा कोई कांड हो गया ऑक्सीजन का। 12 बजे वह आया। उसने कह दिया सर सुबह तक का माल है। मोदी नगर ड्राई हो गया। गाजियाबाद ड्राई हो गया। दिल्ली से गाड़ी आ नहीं रही। माल नहीं आ पाएगा। मैंने कहा-कैसी बात करते हो ऑक्सीजन नहीं मिलेगी क्या, उसने कहा-कहां से मिलेगी। डीएम साहब ऑक्सीजन नहीं देंगे, कहां से देंगे। हम तो उसकी (ट्रेडर) बात को हल्के में ले रहे थे। आधा घंटा तो स्वीकार करने में लगा कि ऐसी घटना भी हो सकती है आगरा में कल। मरीज भर्ती थे 96... मेरे पास 12 घंटे का समय था।"


दूसरे वीडियो में डॉ. अरिंजय कहते हैं, "मेरे पास 12 घंटे का समय था, या ये सब मर जाएंगे या इन्हें रेफर कर दो। दिमाग बिल्कुल खत्म, कोई रास्ता दिखा ही नहीं। एक घंटे तक वार्डों में फोन किया कि कैसे बचें ये मरीज। रात एक बजे एक पत्र लिखा तीमारदारों के लिए आवश्यक सूचना। कि आगरा में पावर सप्लाई ऑक्सीजन की खत्म हो गई है मरीजों के तीमारदार कहीं से इंतजाम कर लें। सुबह 10 बजे तक समय है। पत्र दिया नरेंद्र, गौरव चौहान को, लालजीत को। कहा कि सभी मरीजों को पढ़ा के आओ। नोटिस चस्पा करते तो वायरल हो जाता। ढाई बजे रात में हड़कंप। हॉस्पिटल के बाहर तीमारदार इकठ्ठा हो गए।"

तीसरा वीडियो

डॉ. अरिंजन जैन : इसके बाद फैसला हो गया कि कोई कहीं नहीं जाएगा। हमने कहा, इतना बड़ा कांड हो गया, लास्ट ईयर कांड तो कुछ भी नहीं था। अब लिखा जाएगा कि पारस में 96 मरीजों की मौत। दूसरे शख्स ने कहा-मौत का मंजर देखने को मिलेगा। अब तो हो गया खेल खत्म। अब कैरियर भी खत्म। 304 लिखवाएंगे पत्रकार, मानेंगे नहीं। जेल भी होगी। आखिरी रात है, क्या करते फिर से मैंने ऑक्सीजन का ग्रुप पकड़ा। उस पर एक बड़ा पत्र डाला।

अपनी मजबूरी लिखी। मैंने पत्र डाला कि ऑक्सीजन खत्म हो गई है। मैंने त्यागी वेंडर्स आदि से मदद मांगी। कुछ लोगों के रिप्लाई आया। एक ने 5 सिलेंडर देने की बात कही। मैंने कहा इससे क्या होगा। दो लाख, पांच लाख, दस लाख की गाड़ी ले लो, लेकिन सिलिंडर दे दो। भोपाल या कहीं से भी दिलवाओ। जिंदगी बचानी थी, कैरियर बचाना था। मैंने कहा-सोने का भाव लगा दो, टैंकर खड़ा करो। कैसे भी खड़ा करो। मुख्यमंत्री भी सिलिंडर नहीं दिलवा सकता था।

चौथा वीडियो

डॉ. अरिंजन जैन : मैंने आईएमए के संजय चतुर्वेदी को फोन किया। वह बोले-बॉस कि आप मरीजों को समझाओ, डिस्चार्ज करना शुरू करो। ऑक्सीजन कहीं नहीं है। मुख्यमंत्री भी ऑक्सीजन नहीं मंगा सकता। मोदीनगर ड्राई हो गया है। मेरे तो हाथ-पांव फूल गए। कुछ लोगों (मरीजों के परिवार वालों को) को व्यक्तिगत समझाना शुरू किया।

कहा- समझो बात को। कुछ पेंडुलम बने रहे.. नहीं जाएंगे... नहीं जाएंगे। कोई नहीं जा रहा है। फिर मैंने कहा दिमाग मत लगाओ अब वो छांटो जिनकी ऑक्सीजन बंद हो सकती है। एक ट्रायल मार दो। पता चल जाएगा कि कौन मरेगा कौन नहीं। मॉकड्रिल सुबह 7 बजे की। शून्य कर दिए... 22 मरीज छंट गए, 22 मरीज। नीले पड़ने लगे हाथ पैर, छटपटाने लगे, तुरंत खोल दिए।

दूसरा शख्स : कितने देर की मॉकड्रिल थी।

डॉ. अरिंजय जैन : 5 मिनट की मॉकड्रिल थी, इसके बाद तीमारदारों से कहा कि अपना-अपना सिलिंडर लेकर आओ। सबसे बड़ा प्रयोग यही रहा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia