रणदीप गुलेरिया बने रहेंगे एम्स के निदेशक, तीन महीने के लिए बढ़ाया गया कार्यकाल, जानें कारण

उनकी नियुक्ति के अन्य नियम और शर्तें संस्थान के नियमों के अनुसार होंगी। डॉ गुलेरिया का कार्यकाल पहले भी इसी साल 25 मार्च को तीन महीने के लिए बढ़ाया गया था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

खिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया का कार्यकाल गुरुवार को तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया है। एम्स के एक बयान में कहा गया है, "अध्यक्ष, एम्स को एम्स निदेशक के रूप में उनके (गुलेरिया) कार्यकाल को 25/06/2022 से तीन महीने या नए निदेशक की नियुक्ति के समय, जो भी पहले हो, को आगे बढ़ाते हुए प्रसन्नता हो रही है।"

उनकी नियुक्ति के अन्य नियम और शर्तें संस्थान के नियमों के अनुसार होंगी। डॉ गुलेरिया का कार्यकाल पहले भी इसी साल 25 मार्च को तीन महीने के लिए बढ़ाया गया था। एक सूत्र के मुताबिक, प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से एम्स के निदेशक पद के लिए और नामों पर विचार करने को कहा है।

इस साल मार्च में, एक खोज-सह-चयन समिति द्वारा चुने गए और बाद में एम्स के शीर्ष निर्णय लेने वाले संस्थान निकाय द्वारा अनुमोदित तीन डॉक्टरों के नाम अंतिम अनुमोदन के लिए एसीसी को भेजे गए थे। कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत एवं पेंशन कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा 20 जून को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजे गए एक कार्यालय ज्ञापन में कहा गया है, “...एसीसी में सक्षम प्राधिकारी ने एसीसी के विचार के लिए नामों का एक व्यापक पैनल भेजने के अनुरोध के साथ तत्काल प्रस्ताव वापस करने का निर्देश दिया है।”


एम्स के जिन तीन डॉक्टरों के नामों की सिफारिश पहले की गई थी, वे थे एंडोक्रिनोलॉजी विभाग के प्रमुख निखिल टंडन, एम्स ट्रॉमा सेंटर और हड्डी रोग विभाग के प्रमुख राजेश मल्होत्रा और गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विभाग में प्रोफेसर प्रमोद गर्ग।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia