वीडियो: मुझसे डरी योगी सरकार, इसलिए प्रयागराज जाने से पहले लखनऊ एयरपोर्ट पर रोका: अखिलेश यादव

यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को लखनऊ एयरपोर्ट पर रोक लिया गया है। इससे नाराज अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, “एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतनी डर रही है कि मुझे लखनऊ हवाई-अड्डे पर रोका जा रहा है।”

फोटो: <a href="https://twitter.com/yadavakhilesh">@<b>yadavakhilesh</b></a>
फोटो: <a href="https://twitter.com/yadavakhilesh">@<b>yadavakhilesh</b></a>

नवजीवन डेस्क

प्रयागराज जा रहे यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लखनऊ एयरपोर्ट पर रोक लिया गया है। बताया जा रहा है कि वह चार्टर्ड प्लेन से प्रयागराज जा रहे थे। लेकिन उनके चार्टर्ड प्लेन की अनुमति नहीं दी गई। जिस पर अखिलेश यादव नाराजगी जताते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने कहा, “एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतनी डर रही है कि मुझे लखनऊ हवाई-अड्डे पर रोका जा रहा है।”

उन्होंने आगे कहा, “ बिना किसी लिखित आदेश के मुझे एयरपोर्ट पर रोका गया। पूछने पर भी स्थिति साफ करने में अधिकारी विफल रहे। छात्र संघ कार्यक्रम में जाने से रोकना का एक मात्र मकसद युवाओं के बीच समाजवादी विचारों और आवाज को दबाना है।”

खबरों के मुताबिक, अखिलेश यादव को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ के वार्षिकोत्सव समारोह में शामिल होने के लिए जाना था। इसके अलावा कुंभ मेले में भी जाने वाले थे। लेकिन लखनऊ एयरपोर्ट से प्रयागराज जाने के लिए अपने चार्टर्ड प्लेन में अखिलेश यादव जैसी ही सवार होने जा रहे थे, तभी उनके प्लेन को रोक दिया गया।

अखिलेश यादव को रोके जाने की घटना की जानकारी के बाद सामाजवादी पार्टी के कई नेताओं ने एयरपोर्ट का रुख कर लिया है। उनकी मांग है कि अगर अखिलेश यादव को प्रयागराज नहीं जाने दिया गया तो वो लोग वहां धरना देना शुरू कर देंगे।

खबरों के मुताबिक इलाहाबाद विश्वविद्यालय में एबीवीपी के छात्रों ने अखिलेश यादव के आने पर विरोध का ऐलान किया है। एबीवीपी छात्रों के द्वारा हंगामे और विरोध को देखते हुए युनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा युनिवर्सिटी प्रशासन ने अखिलेश यादव के कार्यक्रम को मंजूरी भी नहीं दी है।

हाल ही में अखिलेश यादव ने केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश में योगी सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि दोनों सरकार लोगों की उम्मीदों पर उतरने में नाकाम रही है। दोनों सरकारें सिर्फ और सिर्फ दमन की राजनीति कर रही है। विपक्ष के नेता अगर अपनी आवाज उठा रहे हैं तो उनकी आवाज को दबाया जा रहा है।

उन्होंने आगे कहा था, “एक तरफ ये सरकार कहती है कि लोकतंत्र में हर किसी को अपनी बात कहने का अधिकार है। लेकिन आज जब इस सरकार के खिलाफ बात की जा रही है तो मुंह को बंद किया जा रहा है।”

Published: 12 Feb 2019, 12:21 PM
लोकप्रिय