बर्ड फ्लू के बीच राहत भरी खबर! दिल्ली में एशिया की सबसे बड़ी गाजीपुर मुर्गा मंडी के सभी 100 सैंपल निगेटिव

वेटेरनरी विभाग के निदेशक डॉ राकेश सिंह ने बताया कि गाजीपुर मंडी में बर्ड फ्लू की पुष्टि अभी नहीं की जा सकती है। उन्होंने बताया कि एक दिन पहले दिल्ली के मुख्य सचिव द्वारा ली गई विशेष बैठक के बाद पार्कों की निगरानी बढ़ा दी गई है। सभी पार्क में अधिक से अधिक सैंपलिंग की जा रही है।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

पवन नौटियाल

देशभर में बर्ड फ्लू के खतरे के बीच देश की राजधानी दिल्ली से राहत भरी खबर सामने आई है। दिल्ली पशुपालन विभाग के मुताबिक एशिया की सबसे बड़ी दिल्ली स्थित गाजीपुर मुर्गा मंडी से लिए गए सभी 100 सैंपल्स नेगेटिव आए हैं। आपको बता दें, किसी भी नमूने में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई है। वेटेरनरी विभाग के निदेशक डॉ राकेश सिंह ने बताया कि, गाजीपुर मंडी से लिए गए नमूनों की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

राकेश सिंह ने बताया कि इससे गाजीपुर मंडी में बर्ड फ्लू की पुष्टि अभी नहीं की जा सकती है। उन्होंने बताया कि एक दिन पहले दिल्ली के मुख्य सचिव द्वारा ली गई विशेष बैठक के बाद पार्कों की निगरानी बढ़ा दी गई है। सभी पार्क में अधिक से अधिक सैंपलिंग की जा रही है। बर्ड फ्लू के मद्देनजर बंद किए गए पार्कों में कोई भी व्यक्ति प्रवेश न करें इसके लिए भी विशेष तौर पर दिशा निर्देश दिए गए हैं। 

इधर, दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने बर्ड फ्लू के मद्देनजर पोल्ट्री उत्पादों को लेकर दिशा निर्देश जारी किए हैं। साथ ही लोगों को पैनिक न होते हुए पॉल्ट्री उत्पादों को 70 डिग्री सेल्सियस पर कम से कम 30 मिनट तक पका कर खाने की सलाह दी है। वहीं, आधा पका हुआ चिकन, हाफ फ्राई और आधा उबला हुआ चिकन भी न खाने की सलाह दी गई है।  स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार, एच5एन8 पक्षियों में अधिक रोगजनक है जबकि मानवों में इसकी क्षमता  कम बताई गई है। स्वास्थ्य विभाग ने बीमार दिखने वाले चिकन से दूरी बनाने के लिए कहा गया है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों दिल्ली में संजय झील में कई कौवे और बत्तख मृत पाई गए थे। इसको देखते हुए दिल्ली के राजस्व विभाग ने टीम को बॉर्डर पर तैनात कर बाहरी राज्यों से दिल्ली में चिकन की आपूर्ति पर प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही गाजीपुर मुर्गा मंडी को भी 10 दिन के लिए बंद किया गया है। मंगलवार तक राजधानी में करीब 50 पक्षियों की मौत दर्ज की गई थी। इसमें 18 सैंपल को जांच के लिए भेजा गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next