NDA में सबकुछ ठीक नहीं! नीतीश के बदलते तेवर से BJP की बढ़ी परेशानी, पेगासस-जाति आधारित जनगणना पर अलग-अलग सुर

जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भाग लेने दिल्ली गए नीतीश हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला से भी मिल आए। वहीं सोमवार को वे पेगासस मामले में संसद में चर्चा कराने और पूरे मामले की जांच कराने की मांग कर बीजेपी के लिए परेशानी खड़ी कर दी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल जेडीयू के वरिष्ठ नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाल के दिनों में दिए गए बयानों ने एनडीए की मुश्किलें बढ़ा दी है। भारतीय जनता पार्टी के लोग भी इन बयानों को लेकर असहज हैं लेकिन विपक्षी दलों के गठबंधन इन मुद्दो को लेकर उत्साहित हैें।

आरजेडी के जातीय जनगणना के मुद्दे को फिर से हवा देने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। वे विपक्षी दलों के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मामले को लेकर मिलने की बात कर रहे हैं। इसी मुद्दे को लेकर आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात भी कर चुके हैं।

जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भाग लेने दिल्ली गए नीतीश हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला से भी मिल आए। वहीं सोमवार को वे पेगासस मामले में संसद में चर्चा कराने और पूरे मामले की जांच कराने की मांग कर बीजेपी के लिए परेशानी खड़ी कर दी।


केंद्र सरकार जाति आधारित जनगणना से इंकार कर चुकी है। बिहार में बीजेपी के कई नेता इसे गैरजरूरी और सामाजिक तनाव को बढ़ाने वाला कदम बता चुके हैं। इधर, नीतीश के बयान का समर्थन एनडीए में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) ने भी कर दी है।

हम के प्रमुख और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी मंगलवार को पेगासस जासूसी मामले की जांच कराने की बात कही। बीजेपी के साथ बिहार में सरकार चला रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बयानों को गौर से देखा जाए तो पिछले कुछ दिनों में मुख्यमंत्री बीजेपी की नीतियों के विरोध में लगातार बयान दे रहे हैें। नीतीश के इन बयानों को लेकर अब विपक्षी दल भी चुटकी ले रहे हैं।

आरजेडी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं, "आरजेडी के नेता लालू प्रसाद हो या तेजस्वी यादव हों, जातीय जनगणना की बात पहले से ही करते आ रहे हैं। विपक्ष जो भी मांग उठा रही है, उसके साथ नीतीश कुमार जी खडे हैं। ऐसे में अब उन्हें भी इसका एहसास हो रहा है कि वे गलत लोगों के साथ हो गए हैं। नीतीश शायद जल्द ही बीजेपी के 'चंगुल' से बाहर निकल आएंगें ।"

इस बीच, नीतीश हालांकि गठबंधन को लेकर निश्चिंत भी नजर आ रहे हैं। नीतीश सोमवार को कहा कि गठबंधन की सरकार बहुत दिनों से एक दूसरे के साथ मिलकर अच्छे से काम कर रही है। गठबंधन में यहां ऐसी कोई बात नहीं है। दिल्ली दौरे के दौरान नीतीश और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चैटाला के साथ मुलाकात पर भी तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री हालांकि इस पर भी कहते हैं कि हमलोगों की पृष्ठभूमि समाजवादी रही है। कोई राजनीतिक बात नहीं हुई है। पुराने संबंध वाले व्यक्ति से मुलाकात करने में भला किसी को क्यों एतराज होगा।

बीजेपी ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री डॉ. निखिल आनंद इस मामले में बहुत कुछ तो नहीं कहते हैं, लेकिन इतना जरूर कहते हैं "नीतीश कुमार जी बिहार में एनडीए के सम्मानित नेता और बिहार के मुख्यमंत्री है लेकिन साथ ही वे जेडीयू के राष्ट्रीय नेता भी है। अत: उनकी किसी से मुलाकात और निजी बयान या विचार पर कुछ भी कहना कतई ठीक नहीं होगा। हम सब उनका दिल से सम्मान करते हैं।" बहरहाल, नीतीश कुमार के बदलते तेवर से बिहार की सियासत में सियासी गर्मी बढ गई है और कई तरह के कयास लगाए जाने लगे हैंे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia