दिल्ली में जल्द खुल सकते हैं सभी स्कूल, केजरीवाल सरकार कल DDMA से करेगी खोलने की सिफारिश

दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि विश्व के कई देशों में और भारत में भी कई राज्यों में अब स्कूलों को खोला जा रहा है। इसके आधार पर हम 27 जनवरी को होने वाली डीडीएमए की बैठक में स्कूलों को खोलने की सिफारिश करेंगे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली की केजरीवाल सरकार चाहती है कि अब सभी बच्चों के लिए स्कूल खोल दिए जाएं। राज्य सरकार गुरुवार 27 जनवरी को दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के समक्ष स्कूलों को खोलने की सिफारिश करने जा रही है। यदि यह सिफारिश मंजूर हो जाती है तो जल्द ही दिल्ली में छात्रों के लिए फिजिकल कक्षाएं फिर से शुरू हो जाएंगी।

दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने स्कूल खोलने के विषय पर कहा कि विश्वव्यापी महामारी कोरोना के कारण पिछले 2 सालों से स्कूलों के लगातार बंद होने से न केवल बच्चों की लर्निंग में बहुत बड़ा गैप आया है, बल्कि उन पर मानसिक और भावनात्मक रूप से भी नकारात्मक असर पड़ रहा है। बच्चों के लर्निंग गैप को पाटने और उनके सोशल, इमोशनल, मेंटल वेल-बीइंग के लिए स्कूलों का खोलना बेहद जरूरी हो गया है।

उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि ऑनलाइन पढ़ाई कभी ऑफलाइन पढ़ाई की जगह नहीं ले सकती। पिछले 2 सालों में स्कूली बच्चों की जिन्दगी घर के किसी कमरे तक ही सीमित रह गई है। उनका स्कूल प्लेग्राउंड सब कुछ घर में मोबाइल के अंदर ही सिमट गया है। इस दौरान बच्चों की पढ़ाई का नुकसान तो हुआ ही है, साथ ही उनका मानसिक स्वास्थ्य भी प्रभावित हुआ है।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोरोना के दौरान हमारे लिए बच्चों की सुरक्षा पहली प्राथमिकता थी, लेकिन अब जिस प्रकार से विभिन्न रिसर्च के माध्यम से यह निकल कर आ रहा है कि कोरोना छोटे बच्चों के लिए घातक नहीं है। ऐसे में यह बेहद जरुरी हो गया है कि जल्द से जल्द स्कूलों को खोला जाए, क्योंकि अब यह समय परीक्षाओं और उससे संबंधित तैयारियों का भी है।


दिल्ली के शिक्षा मंत्री ने कहा कि विश्व के कई देशों में और भारत में भी कई राज्यों में अब स्कूलों को खोला जा रहा है। इसके आधार पर हम 27 जनवरी को होने वाली डीडीएमए की बैठक में स्कूलों को खोलने की सिफारिश करेंगे।

बुधवार को सेंटर फॉर पालिसी रिसर्च की प्रेसिडेंट और सीईओ यामिनी अय्यर और पब्लिक पॉलिसी एंड हेल्थ सिस्टम एक्सपर्ट डॉ. चंद्रकांत लहरिया की अध्यक्षता में 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को स्कूलों को खोलने को लेकर ऑनलाइन माध्यम से 1600 से अधिक पेरेंट्स द्वारा हस्ताक्षर किया गया ज्ञापन सौंपा।

इस मौके प्रतिनिधि मंडल के सदस्य डॉ.चन्द्रकांत लहरिया ने बताया कि एम्स, आईसीएमआर, इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स, नीति आयोग, यूनिसेफ, डब्लूएचओ सहित विभिन्न संस्थाओं के अनुसार, छोटे बच्चों में कोरोना का जोखिम बहुत कम होता है। उन्होंने कहा कि स्कूलों के बंद होने से लाभ होने से अधिक बच्चों की लर्निंग और मानसिक भावनात्मक स्वास्थ्य की हानि हुई है। इसलिए अब यह बेहद जरुरी है कि स्कूलों को दोबारा से खोल दिया जाए।

सेंटर फॉर पालिसी रिसर्च की प्रेसिडेंट यामिनी अय्यर ने कहा कि लम्बे समय से स्कूलों से दूर रहने के कारण छोटे बच्चों में काफी बड़ा लर्निंग गैप देखने को मिल रहा है। महामारी के कारण दो साल में यह अंतर काफी बढ़ा है और बच्चों को अब स्कूलों से दूर रखने का मतलब है कि एक पीढ़ी को लर्निंग गैप के साथ आगे बढ़ाना।


उन्होंने कहा कि बहुत से रिसर्च में पाया गया है कि बच्चे बेसिक मैथेमैटिक्स और लैंग्वेज के फंडामेंटल स्किल्स को भी भूल रहे हैं। इस लर्निंग गैप को पाटने के लिए स्कूलों का खुलना बेहद जरुरी है। स्कूलों में बच्चों के सम्पूर्ण विकास पर ध्यान दिया जाता है, जो घर में रहते हुए ऑनलाइन पढ़ाई के माध्यम से संभव नहीं है।

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि बच्चों को अब इस स्थिति में स्कूलों से दूर रखना उचित नहीं होगा, जब दिल्ली में कोरोना के मामलों में तेजी से गिरावट देखने को मिल रही है और संक्रमण की दर भी कम हुई है। इसलिए हम डीडीएमए की बैठक में यह मांग करेंगे कि कोरोना संबंधित प्रोटोकॉल का पालन करते हुए हमें स्कूलों को खोलने की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि बच्चों के दोबारा स्कूल आने से न केवल स्कूल गुलजार होंगे, बल्कि यह उनकी जिंदगी के दोबारा पटरी पर लौटने का संकेत भी होगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia