इलाहाबाद HC ने कहा- अजान इस्लाम का अभिन्न अंग, लेकिन लाउडस्पीकर से अजान देना इस्लाम का हिस्सा नहीं, याचिका खारिज

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि लाउडस्पीकर से अजान देना मौलिक अधिकार नहीं है। कोर्ट ने यह भी कहा कि अजान इस्लाम का अभिन्न अंग है, लेकिन लाउडस्पीकर से अजान देना इस्लाम का हिस्सा नहीं है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में लाउडस्पीकर विवाद के बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बड़ी टिप्पणी की है। साथ ही उस याचिका को भी खारिज कर दिया, जिसमें मस्जिदों में लाउडस्पीकर पर अजान देने की मांग की गई थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मस्जिदों में लाउडस्पीकर से अजान को लेकर दाखिल अर्जी को खारिज करते हुए कहा कि लाउडस्पीकर से अजान देना मौलिक अधिकार नहीं है। कोर्ट ने यह भी कहा कि अजान इस्लाम का अभिन्न अंग है, लेकिन लाउडस्पीकर से अजान देना इस्लाम का हिस्सा नहीं है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में यह याचिका इरफान नाम के व्यक्ति ने दाखिल की थी। याचिका में उत्तर प्रदश के बदायूं जिले के बिसौली एसडीएम के 3 दिसंबर 2021 को दिए गए आदेश को चुनौती दी गई थी। याचिका में दलील दी गई थी कि एसडीएम का आदेश पूरी तरह अवैधानिक है। एसडीएम का आदेश मौलिक और कानूनी अधिकारों का हनन करता है। एसडीएम ने अजान के लिए धोरनपुर गांव की नूरी मस्जिद में लाउडस्पीकर लगाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 06 May 2022, 11:49 AM