Getting Latest Election Result...

डॉ. कफील खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी राहत, CAA प्रदर्शन में भड़काऊ भाषण के आरोप में दर्ज FIR रद्द

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में डॉ. कफील के खिलाफ 12 दिसंबर 2019 को मुकदमा दर्ज किया गया था, जिसे हाईकोर्ट ने रद्द कर दिया।

फाइल फोटोः पीटीआई
फाइल फोटोः पीटीआई
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन त्रासदि के बाद से निलंबित डॉ कफील खान को आज इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बड़ी राहत दी है। हाईकोर्ट ने कफील खान के खिलाफ 2019 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दर्ज एफआईआर को रद्द कर दिया है। इसके साथ ही कोर्ट ने उनके खिलाफ आपराधिक कार्रवाई पर भी रोक लगा दी है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट की जस्टिस गौतम चौधरी की एकलपीठ ने डॉ. कफील खान की याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार से अभियोजन चलाने की अनुमति लिए बगैर चार्जशीट पर सीजेएम अलीगढ़ द्वारा संज्ञान लेने की कार्यवाही को भी रद्द कर दिया है। जस्टिस गौतम चौधरी ने मामले में सीनीयर एडवोकेट दिलीप कुमार, एडवोकेट मनीष कुमार सिंह और राज्य सरकार के अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल की दलीलें सुनने के बाद यह आदेश दिया।


बता दें कि डॉक्टर कफील खान के खिलाफ नागरिकता संशोधन कानून और एनआऱसी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में आयोजित एक सभा में कथित तौर पर भड़काऊ और देश विरोधी भाषण देने के आरोप में 12 दिसंबर 2019 को एफआईआर दर्ज की गई थी। इस मामले में पुलिस ने आईपीसी की धारा 197 के तहत लोक सेवक के विरूद्ध आपराधिक कार्यवाही के लिए जरूरी सरकार की अनुमति लिए बिना ही कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दिया। सीजेएम ने भी चार्जशीट रिपोर्ट पर संज्ञान ले लिया, जिसकी वैधता को कफील खान ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

गौरतलब है कि इसी केस के आधार पर योगी सरकार ने डॉ कफील खान के खिलाफ एनएसए लगाया था, जिसके बाद कफील को एनएसए के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था, जिसमें उन्हे करीब 6 महीने तक जेल में रहना पड़ा। बाद में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एनएसए की कार्रवाई को रद्द कर दिया था।जिस बयान के आधार पर डॉ कफील पर एनएसए लगाया गया था, उसे कोर्ट ने भड़काऊ या फिर देश तोड़ने वाला बयान नहीं माना। कोर्ट ने कफील के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई को रद्द करते हुए तत्काल रिहा करने का आदेश दिया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 26 Aug 2021, 10:16 PM