9वीं से 12वीं का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी, कोरोना काल में पढ़ाई पूरा करने के लिए अल्टरनेट व्यवस्था

यह वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर कोरोना महामारी के चलते घरों पर ही पढ़ाई कर रहे बच्चों को शिक्षकों की मदद से अर्थपूर्ण शैक्षिक गतिविधियों में सम्मिलित होने में मदद करेगा। एनसीईआरटी ने छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के लिए यह वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर बनाया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने 9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए एक वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर लॉन्च किया है। इस नए शैक्षणिक कैलेंडर में हफ्तेवार आठ हफ्ते का शेड्यूल दिया गया है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को 8 हफ्ते का नया वैकल्पिक एकेडमिक कैलेंडर जारी किया। इस कैलेंडर को शिक्षा मंत्रालय के मार्गदर्शन मे एनसीईआरटी द्वारा बनाया गया है।

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने वर्चुअल माध्यम से माध्यमिक स्तर के छात्रों के लिए 8 हफ्तों का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी करते हुए शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शिक्षकों से कहा कि वे खुद सुरक्षित रहें और छात्रों को घर से ही सीखने में मदद करें। इसके लिए वे मोबाइल फोन, एसएमएस, टेलीविजन, रेडियो और तमाम सोशल मीडिया टूल्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

पोखरियाल ने इस अवसर पर कहा, "यह वैकल्पिक कैलेंडर शिक्षकों को विभिन्न तकनीकों और सोशल मीडिया मंचों के इस्तेमाल के लिए दिशा-निर्देश उपलब्ध कराएगा। इसका उद्देश्य शिक्षण कार्य को रोचक और उल्लासपूर्ण बनाना है, जिसका उपयोग छात्र, अभिभावक और शिक्षक घरों पर शिक्षण कार्य में कर सकते हैं।" उन्होंने कहा, "यह कैलेंडर दिव्यांग जनों समेत सभी बच्चों की जरूरतें पूरी करेगा। इसमें ऑडियो बुक, रेडियो कार्यक्रम, वीडियो कार्यक्रम भी उपलब्ध होंगे।"

यह कैलेंडर एनसीईआरटी के सिलेबस के तहत पढ़ाई करने वाले 9वीं से 12वीं कक्षा के बीच के सभी छात्रों के लिए लागू होगा। इस कैलेंडर का उद्देश्य घर से पढ़ाई करने वाले छात्रों को तकनीक और सोशल मीडिया का प्रयोग करके शिक्षा देना है। एनसीईआरटी द्वारा प्राथमिक और उच्च प्राथमिक कक्षाओं के लिए 12 सप्ताह का शैक्षणिक कैलेंडर और माध्यमिक और उच्च माध्यमिक चरणों के लिए 4 सप्ताह का शैक्षणिक कैलेंडर पहले ही जारी किया जा चुका है।

लोकप्रिय
next