नसीरुद्दीन शाह के समर्थन में आए अमर्त्य सेन, कहा- देश में जो हो रहा है वह आपत्तिजनक, इसे बंद करना चाहिए 

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने बॉलीवुड अभिनेता नसीरुद्दीन शाह का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि हमें अभिनेता को परेशान करने के इस तरह के प्रयासों के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। देश में जो कुछ हो रहा है, वह आपत्तिजनक है।

फोटो:सोशल मीडिया
फोटो:सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने अभिनेता नसीरुद्दीन शाह का समर्थन करते हुए कहा कि उन्हें परेशान करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा, “देश में जो कुछ हो रहा है वह आपत्तिजनक है। इसे बंद किया जाना चाहिए।” देश में भीड़ हिंसा पर प्रतिक्रिया देने और गैर सरकारी संगठनों पर सरकार द्वारा की जा रही कथित कार्रवाई के खिलाफ एमनेस्टी इंडिया के लिए एक वीडियो में आने की वजह से शाह विवादों में आ गए हैं। वीडियो में नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि जो अधिकारों की मांग कर रहे हैं, उन्हें कैद किया जा रहा है।

अमर्त्य सेन ने आगे कहा कि, “हमें अभिनेता को परेशान करने की इस तरह की कोशिशों के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। देश में जो कुछ हो रहा है, वह आपत्तिजनक है और इसे जरूर रोका जाना चाहिए।” उन्होंने आगे कहा कि दूसरों को सहन करने की क्षमता खोना एक गंभीर चिंता का कारण है, ये सोचने और समझने की क्षमता के खोने की ओर भी इशारा करता है।

बता दें कि शुक्रवार को एक वीडियो में नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि, “जो लोग नाइंसाफों, गरीबों पर जुल्म के खिलाफ लड़ते हैं, भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते हैं, दरअसल ये लोग संवैधानिक अधिकारों की रक्षा करते हैं। लेकिन अब, ऐसे लोगों को सलाखों के पीछे जेल में डाला जा रहा है। कलाकारों, अभिनेताओं, विद्धानों-शायरों और यहां तक कि पत्रकारों को भी लिखने-बोलने से रोका जा रहा है।”

उन्होंने आगे कहा था, “हमारे आजाद देश का संविधान 26 नवंबर 1949 में लागू हुआ। शुरु में ही संविधान के बुनियादी उसूलों को साफ किया गया कि देश के हर नागरिक को सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और धार्मिक इंसाफ मिल सके। सोचने, बोलने, किसी भी धर्म को मानने या किसी भी तरह से पूजा-इबादत करने की आज़ादी हो। देश के हर नागरिक को बराबर समझा जाए और हर नागरिक की जान और माल की सुरक्षा और सम्मान दिया जाए।”

इसे देखें: वीडियो: मानवाधिकारों की रक्षा करने वालों को जेल में डाला जा रहा है, पत्रकारों को खामोश किया जा रहा है: नसीरुद्दीन शाह

Published: 7 Jan 2019, 11:16 AM
लोकप्रिय