भारत में 'बढ़ते' धार्मिक हमलों पर अमेरिका ने जताई चिंता, कहा- हमलों की अनदेखी या समर्थन किया जा रहा है

अमेरिकी विदेश विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आगे बढ़कर भारतीय अधिकारियों पर इन हमलों को 'अनदेखा या समर्थन करने' का आरोप लगाया। उन्होंने न तो किसी अधिकारी का नाम बताया और न ही घटनाओं का कोई विशेष उल्लेख किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने दुनियाभर में धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार के हनन के बीच भारत में पूजा स्थलों पर लोगों पर 'बढ़ते' हमलों का हवाला देते हुए चिंता प्रकट की।

अमेरिकी विदेश विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आगे बढ़कर भारतीय अधिकारियों पर इन हमलों को 'अनदेखा या समर्थन करने' का आरोप लगाया।

उन्होंने न तो किसी अधिकारी का नाम बताया और न ही घटनाओं का कोई विशेष उल्लेख किया। उनकी टिप्पणी दुनियाभर में धर्म की स्वतंत्रता की स्थिति पर विदेश विभाग की 2021 की वार्षिक रिपोर्ट के विमोचन के समय आई है। रिपोर्ट में अमेरिकी अधिकारियों द्वारा उइगर मुस्लिम अल्पसंख्यकों के दमन के लिए चीन, रोहिंग्याओं के इलाज के लिए म्यांमार और पाकिस्तान द्वारा पारित कठोर ईशनिंदा कानून, जिसमें मौत की सजा का प्रावधान है, के निरंतर उपयोग का जिक्र किया गया है।

ब्लिंकन ने कहा, "दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में विभिन्न प्रकार की आस्थाओं के घर हैं, हमने पूजा स्थलों पर लोगों पर हमले बढ़ते देखे हैं।" उन्होंने उन्हें निर्दिष्ट नहीं किया, लेकिन 2000-पृष्ठ की रिपोर्ट ने संकेत दिया कि ये हमले ईसाई और मुस्लिम पूजा स्थलों पर किए गए।

अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के लिए विदेश विभाग के राजदूत-एट-लार्ज, राशद हुसैन ने उनके नेतृत्व में लाई गई रिपोर्ट के विमोचन में कहा, "भारत में कुछ अधिकारी लोगों और पूजा स्थलों पर बढ़ते हमलों की अनदेखी या समर्थन कर रहे हैं।"


हालांकि, विदेश विभाग की रिपोर्ट में भारत को 'विशेष चिंता का देश' के रूप में नामित नहीं किया गया है। अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग अतीत में भी भारत का कड़ा आलोचक रहा है और यहां तक कि नई दिल्ली द्वारा अवरुद्ध किए गए तथ्य-खोज मिशनों पर अधिकारियों को भारत भेजने का भी प्रयास किया गया था।

ब्लिंकन द्वारा भारत की आलोचना नई दिल्ली को परेशान करेगी, जिसने अतीत में अमेरिकी अधिकारियों की इस तरह की टिप्पणियों और टिप्पणियों पर कड़ा प्रहार किया है। हाल ही में भारत यह कहते हुए आक्रामक हो गया कि उसे संयुक्त राज्य में अधिकारों और स्वतंत्रता के बारे में भी चिंता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2020 की गर्मियों में ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन के चरम पर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ नस्लीय समानता का मुद्दा उठाया था।

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अप्रैल में यहां सचिव ब्लिंकन, रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ एक संयुक्त प्रेस वार्ता में इसे स्पष्ट रूप से कहा था। जयशंकर ने कहा था, "लोग हमारे बारे में विचार रखने के हकदार हैं। लेकिन हम उनके विचारों, हितों और लॉबी और बैंक शब्द के बारे में भी समान रूप से विचार करने के हकदार हैं। मैं आपको बता सकता हूं कि हम बोलने में संकोच नहीं करेंगे। मैं आपको बता दूं कि संयुक्त राज्य अमेरिका सहित अन्य लोगों के मानवाधिकारों की स्थिति पर भी हमारे विचार हैं। इसलिए हम मानवाधिकार के मुद्दों को तब उठाते हैं, जब वे इस देश में उठते हैं, खासकर जब वे हमारे समुदाय से संबंधित होते हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia