अमेरिका ने खालिस्तानी पन्नून की हत्या की साजिश को किया नाकाम, भारत को चेतावनी जारी की, रिपोर्ट में दावा

रिपोर्ट के अनुसार, मामले से वाकिफ एक व्यक्ति ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जून में वाशिंगटन की हाई-प्रोफाइल राजकीय यात्रा के बाद अमेरिका ने विरोध प्रकट किया था। हालांकि, अमेरिकी न्याय विभाग और एफबीआई ने मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है।

अमेरिका ने खालिस्तानी पन्नून की हत्या की साजिश को किया नाकाम, भारत को चेतावनी जारी की
अमेरिका ने खालिस्तानी पन्नून की हत्या की साजिश को किया नाकाम, भारत को चेतावनी जारी की
user

नवजीवन डेस्क

खालिस्तानी अलगाववादी समूह के नेता गुरपतवंत सिंह पन्नू को लेकर बड़ी खबर  सामने आई है। ब्रिटेन के नामी अखबार फाइनेंशियल टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि अमेरिकी अधिकारियों ने अमेरिकी धरती पर सिख अलगाववादी नेता और अमेरिकी-कनाडाई नागरिक गुरपतवंत सिंह पन्नून की हत्या की साजिश को नाकाम कर दिया है। मामले से परिचित लोगों का कहना है कि इस साजिश में शामिल होने की चिंता के साथ भारत को चेतावनी भी जारी की गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, पन्नून अमेरिका आधारित समूह सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) का सामान्य वकील है, जो "खालिस्तान" नामक एक स्वतंत्र सिख राज्य की मांग करने वाले आंदोलन से जुड़ा हुआ है। मामले से परिचित लोगों ने, जिन्होंने चेतावनी देने वाली खुफिया जानकारी की संवेदनशील प्रकृति के कारण नाम जाहिर नहीं करने का अनुरोध किया, यह नहीं बताया कि क्या नई दिल्ली में विरोध प्रदर्शन के कारण साजिशकर्ताओं ने अपनी योजना छोड़ दी या क्या एफबीआई ने हस्तक्षेप किया और योजना को विफल कर दिया।


फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मामले से वाकिफ एक व्यक्ति ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जून में वाशिंगटन की हाई-प्रोफाइल राजकीय यात्रा के बाद अमेरिका ने विरोध प्रकट किया था। राजनयिक चेतावनी से अलग, अमेरिकी संघीय अभियोजकों ने न्यूयॉर्क जिला अदालत में साजिश में शामिल कम से कम एक कथित अपराधी के खिलाफ सीलबंद अभियोग दायर किया है।

अमेरिकी न्याय विभाग इस बात पर बहस कर रहा है कि क्या अभियोग वाले सीलबंद लिफाफे को खोला जाए और आरोपों को सार्वजनिक किया जाए या कनाडा द्वारा निज्जर की हत्या की जांच पूरी होने तक इंतजार किया जाए। कार्यवाही से परिचित लोगों के अनुसार, माना जाता है कि अभियोग में आरोपित एक व्यक्ति अमेरिका छोड़ चुका है। यह इस मामले को और अधिक जटिल बनाता है।

अमेरिकी न्याय विभाग और एफबीआई ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल ने कहा, "अमेरिका ने हमारे सहयोगियों से जुड़े कानून प्रवर्तन मामलों या निजी राजनयिक चर्चाओं पर टिप्पणी नहीं की है, लेकिन अमेरिकी नागरिकों की सुरक्षा बनाए रखना सर्वोपरि है।"


जून में वैंकूवर में मारे गए कनाडाई सिख अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद अमेरिका ने कुछ सहयोगियों को साजिश के बारे में सूचित किया था। सितंबर में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा था कि उन्‍हें विश्‍वस्‍त सूत्रों के जरिए निज्जर पर गोलीबारी का तार भारत से जुड़े होने का पता चला है। ट्रूडो के ब्‍योरा सार्वजनिक करने के बाद वाशिंगटन ने सहयोगियों के एक व्यापक समूह के साथ पन्‍नून मामले का ब्‍योरा साझा किया, जिसके संयोजन ने व्यवहार के संभावित पैटर्न के बारे में सहयोगियों के बीच चिंता पैदा कर दी है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;