JDU में आई दरार के बीच अध्यक्ष पद से आरसीपी की विदाई के कयास तेज, नीतीश के भरोसेमंद को मिल सकती है कुर्सी

जेडीयू के एक नेता कहते हैं कि अध्यक्ष वही होगा, जो नीतीश कुमार के भरोसे का होगा और संगठन बढ़ाने और मजबूत करने का अनुभवी होगा। ऐसे में उपेंद्र कुशवाहा का नाम सबसे आगे है। वैसे, ललन सिंह को भी अध्यक्ष बनाकर नीतीश एक खास वर्ग को खुश करने की जुगत लगा सकते हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ मिलकर सरकार चला रहे जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) के अध्यक्ष आर सी पी सिंह के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद पार्टी में पैदा हुए विवाद में उनकी अध्यक्ष की कुर्सी खतरे में पड़ती नजर आ रही है। इस बीच जेडीयू की 31 जुलाई को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होनी है। माना जा रहा है कि इस बैठक में नए अध्यक्ष के नाम पर मुहर भी लग सकती है।

आरसीपी सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान मिलने के बाद से ही पार्टी के अंदर घमासान मचा हुआ है। रविवार को जेडीयू के नवमनोनीत प्रदेश पदाधिाकरियों की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आर सी पी सिंह ने जरूर भाग लिया, लेकिन कई वरिष्ठ नेताओं ने बैठक से दूरी भी बना ली।

जेडीयू के एक नेता नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर बताते हैं कि आरसीपी सिंह को भी इस बात का इशारा मिल चुका है कि उन्हें पार्टी में एक व्यक्ति, एक पद के सिद्धांत का पालन करना होगा। इस सिद्धांत के बाद सिंह के अध्यक्ष पद की कुर्सी जाना तय माना जा रहा है। वहीं, सिंह ने भी पार्टी की रविवार को हुई बैठक में इस बात के साफ संकेत0 दिए हैं। उन्होंने कहा, "पार्टी तय करेगी तो मैं अध्यक्ष की जिम्मेदारी किसी मजबूत साथी को देने में पीछे नहीं हटूंगा। संगठन है तभी पार्टी है, तभी मैं मंत्री और हमारे नेता मुख्यमंत्री हैं।"


इधर, जेडीयू के अगले अध्यक्ष को लेकर उपेंद्र कुशवाहा के नाम की चर्चा जोरों पर है। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के जेडीयू में विलय के बाद जेडीयू में शामिल होने वाले कुशवाहा का पार्टी में प्रभाव बढ़ता जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि इस बात से जेडीयू में आरसीपी सिंह का खेमा नाराज है।

इन सबके बीच जेडीयू की 31 जुलाई को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक होने वाली है, सभी की नजर अब उस बैठक पर टिक गई है। इस बैठक में पार्टी के सभी 75 सदस्यों के शामिल होने की संभावना है। कहा जा रहा है कि इस दिन पार्टी के नए अध्यक्ष के नाम की घोषणा कर दी जाएगी। नए अध्यक्ष के तौर पर उपेंद्र कुशवाहा का ही नाम सबसे आगे चल रहा है।

जेडीयू के एक नेता भी कहते हैं कि "पार्टी का अध्यक्ष वहीं होगा, जो नीतीश कुमार के भरोसे का होगा और संगठन को बढ़ाने और मजबूत करने का अनुभव होगा। ऐसे में कुशवाहा का नाम सबसे आगे माना जा रहा है। कुशवाहा न केवल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भरोसे के व्यक्ति माने जाते है, उन्हें संगठन चलाने का भी अनुभव है।"

कहा जा रहा है कि कुशवाहा को पार्टी का अध्यक्ष बनाकर नीतीश कुमार जातीय समीकरण भी दुरूस्त करना चाहेंगे। वैसे, मुंगेर के सांसद ललन सिंह को भी जेडीयू का अध्यक्ष बनाकर नीतीश एक खास वर्ग को खुश करने की जुगत लगा सकते हैं। ललन सिंह भी नीतीश के काफी करीबी माने जाते है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia