पश्चिम बंगाल: अनीस खान की रहस्यमयी मौत! बंगाल पुलिस की सुसाइड थ्योरी को हाईकोर्ट में चुनौती

हावड़ा जिले के अमता में हुई 19 फरवरी, 2022 को छात्र नेता अनीस खान की रहस्यमयी मौत की जांच कर रहे पश्चिम बंगाल पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) की रिपोर्ट ने संकेत दिया है कि अनीस ने आत्महत्या की थी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

हावड़ा जिले के अमता में हुई 19 फरवरी, 2022 को छात्र नेता अनीस खान की रहस्यमयी मौत की जांच कर रहे पश्चिम बंगाल पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) की रिपोर्ट ने संकेत दिया है कि अनीस ने आत्महत्या की थी। हालांकि राज्य पुलिस की इस थ्योरी को अनीस के पिता सलेम खान के वकील ने चुनौती दी है।

19 अप्रैल को, एसआईटी ने न्यायमूर्ति राजशेखर मंथा की कलकत्ता उच्च न्यायालय की पीठ को जांच पर 82-पृष्ठ की प्रगति या प्रोग्रेस रिपोर्ट प्रस्तुत की थी, जिन्होंने निर्देश दिया कि रिपोर्ट मामले से संबंधित सभी पक्षों के वकीलों को उपलब्ध कराई जानी चाहिए।


अनीस खान के पिता सलेम के वकील विकास रंजन भट्टाचार्य ने सोमवार को न्यायमूर्ति मंथा की पीठ के समक्ष कहा कि एसआईटी ने अपनी प्रगति रिपोर्ट में अनीस खान की मौत पर आत्महत्या का संकेत दिया है, हालांकि उनकी राय में यह पहले से ही सुनियोजित हत्या है। भट्टाचार्य ने आरोप लगाया कि वास्तविकता को छिपाने के लिए आत्महत्या की थ्योरी तैयार की गई है।

न्यायमूर्ति मंथा ने उन्हें राज्य पुलिस की एसआईटी द्वारा प्रगति रिपोर्ट में उल्लिखित निष्कर्षों पर अपनी आपत्तियों के सही कारणों का हवाला देते हुए एक सप्ताह के भीतर एक हलफनामा दाखिल करने के लिए कहा।

सलेम खान ने शुरू से ही कहा है कि उसे राज्य पुलिस की विशेष जांच टीम द्वारा जांच में कोई भरोसा नहीं है, क्योंकि उसके बेटे को वर्दी में पुलिसकर्मियों और नागरिक स्वयंसेवकों ने मार दिया था। वह इस मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की जांच पर अड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि यदि आवश्यक हुआ तो वह सीबीआई जांच के लिए अपनी याचिका के साथ उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।


अनीस की हत्या के सिलसिले में एक नागरिक स्वयंसेवक और एक होमगार्ड को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। ये दोनों न्यायिक हिरासत में हैं। हालांकि, पीड़ित के परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया है कि गिरफ्तारी सिर्फ एक दिखावा है और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इस अपराध में शामिल रहे हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 25 Apr 2022, 7:07 PM