योगी सरकार में एक और किसान ने की खुदकुशी, कर्ज के दलदल में फंसने के बाद लगाई फांसी, खेती में हुआ था नुकसान

जरीफनगर थाने के एसएचओ सुधाकर पांडे के मुताबिक किसान सोमवार को अपने घर से निकला था और बाद में दिन में वह गांव के बाहर एक पेड़ से लटका मिला।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

योगी सरकार में एक और किसान ने खुदकुशी की है। एक 55 वर्षीय किसान ने 2.5 लाख रुपये के कर्ज में फंसने के बाद कथित तौर पर फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। किसान प्रताप सिंह को जरीफनगर इलाके में अपने बैलों को बांधने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली रस्सी से लटका पाया गया। हाल ही में, उसने अपनी पत्नी के इलाज और अपने कर्ज के हिस्से का भुगतान करने के लिए अपने बैल बेच दिए थे।

जरीफनगर थाने के एसएचओ सुधाकर पांडे के मुताबिक किसान सोमवार को अपने घर से निकला था और बाद में दिन में वह गांव के बाहर एक पेड़ से लटका मिला।

एसएचओ ने कहा कि प्रताप के परिवार ने बताया कि वह बकाया कर्ज के कारण परेशान था। उसे खेती में नुकसान हुआ था और उसे पटरी पर लौटने की कोई उम्मीद नहीं दिख रही थी। उसके परिवार ने कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है। पोस्टमार्टम में मौत के कारण की पुष्टि फांसी के रूप में हुई है। परिवार राज्य हितग्राही योजना के तहत मुआवजे का हकदार होगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia